पूर्व आइएएस के बेटे प्रवेश दलई को गिरफ्तार करने दबाव में पुलिस, आरोपी घटना के बाद से गायब

छात्रा से अश्लील बात करने, धमकाने के आरोप में निलंबित विधि विभाग के सहायक प्राध्यापक प्रवेश दलेई को गिरफ्तार करने में कोनी पुलिस के हाथ पांव फूल गए हैं। पूर्व आइएएस पीसी दलई के बेटे को बचाने हर संभव प्रयास किया जा रहा है। रविवार को कोनी टीआइ ने वीआइपी ड्यूटी का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया। जिसके कारण छात्र-छात्राओं में जबरदस्त आक्रोश है।

प्रवेश दलई के मामले में जब पुलिस को यह पता चला कि वह पूर्व आइएएस का बेटा है तो मामले में लीपापोती शुरू हो गई है। कोनी पुलिस प्रवेश को भागने का पूरा मौका दे रही है। एफआइआर के बाद पुलिस ने आरोपी को पकडने के लिए अब तक न तो कोई टीम तैयार किया है और न कोई छापेमारी। पुलिस के अधिकारी यहां तक कह रहे हैं कि प्रवेश पर किसी प्रकार का दबाव नहीं है।

दूसरी ओर पीड़ित छात्रा के परिजन एफआइआर दर्ज कराने के बाद गिरफ्तारी को लेकर टकटकी लगाए बैठे हैं। विधि विशेषज्ञों का कहना है कि दामिनी केस के बाद 354 धारा जेल भेजने का प्रावधान है। दिल्ली में सन 2012 में हुए दामिनी केस के बाद छेडखानी के तहत दर्ज होने वाले मामलों में आरोपी को तत्काल जमानत नहीं दिए जाने का प्रवधान किया गया था। धारा के तहत आरोपी को गिरफ्तार कर तत्काल कोर्ट में पेश करने के नियम हैं, लेकिन पुलिस छात्रा की शिकायत पर एफआइआर दर्ज करने तक सीमित रही।


Tags

छात्रा से अश्लील बात सहायक प्राध्यापक प्रवेश दलेई पूर्व आइएएस

Related Articles

More News