करोड़ों रुपये की संपत्ति छोड़कर भाई-बहन लेंगे सन्यास, अगले महीने करेंगे दीक्षा ग्रहण

सूरत. करोड़ों रुपये की संपत्ति त्यागकर गुजरात के भाई-बहन संन्यासी बनने जा रहे हैं। 9 दिसंबर को सूरत में आयोजित दीक्षा समारोह में यश वोरा (20) दीक्षा लेने के बाद साधु बनेंगे तो उनकी बहन आयुषी वोरा (22) संन्यासिन बन जाएंगी।

यश और आयुषी दोनों गुजरात के एक कपड़ा व्यवसायी के बच्चे हैं। दोनों ने इंटर की पढ़ाई के बाद धार्मिक पढ़ाई के लिए पूज्य आचार्य भगवान यशोवरम सुरिश्रवर महाराज को जॉइन कर लिया था। चार साल पहले दोनों ने दीक्षा लेकर संन्यास धारण करने का फैसला लिया था। दोनों जहां कार पर चलते थे, अब वे पैदल चलेंगे। ब्रैंडेड कपड़ों का त्याग करके दोनों साधारण सफेद सूती कपड़े धारण करेंगे। उनका भोजन सात्विक होगा।

आयुषि ने कहा, 'मेरी मां मुझसे कहती थीं कि किसी से मेरी शादी करने की बजाए वह मुझे माता जी की रूप में देखना चाहती हैं। मेरी मां की सलाह पर मैंने संन्यास धारण करने के फैसला लिया। अब 9 दिसंबर को मेरा सपना पूरा हो जाएगा।' यश ने कहा, 'मैंने अपनी पढ़ाई पूरी की और फिर पापा के कपड़ा व्यवसाय के समझने के लिए उनके साथ जुड़ा। कुछ महीनों के बाद मुझे अहसास हुआ कि मैं इन काम के लिए नहीं बना हूं। मेरा दिमाग बहुत अशांत रहने लगा। उसी दौरान मेरी बहन ने मुझे संन्यास धारण करने की सलाह दी। मैं पालीताना गया और वहां आचार्य जी से प्रभावित हुआ। उसके बाद मैंने संन्यास धारण करने का फैसला लिया।'

यश ने कहा कि पहले उसे क्रिकेट खेलना और दूसरे खेल खेलना बहुत अच्छा लगता था लेकिन जब से उसने संन्यास लेने का फैसला लिया है तब से उसका दिल भौतिकता से हट गया है। दोनों के पिता भरत वोरा (57) ने बताया कि उनका कपड़ों का बड़ा व्यापार है। खुद का अडाजन में एक बड़ा बंगला है। पैतृक गांव में संपत्ति है लेकिन वह अपने बच्चों के फैसले से खुश हैं। उन्होंने कहा कि उनके गांव वाव-थारड बनासकांठा में 15 घर हैं। सिर्फ मेरे घर को छोड़कर सबके घर में संन्यासी हैं। उनका एक और बेटा है। बड़ा होने पर वह उसे भी संन्यासी के रूप में ही देखना चाहते हैं।

Tags

Diksha Sister Brother Surat

Related Articles

More News