तबीयत खराब होने का बहाना बनाकर घर बुलाती थी युवती, फिर ऐसे फंसाती थी हनीट्रैप में, आठ करोड़ ऐंठ लिए

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने हनीट्रैप में फंसाकर दिल्ली के नौ प्रतिष्ठित लोगों से करोड़ों रुपये ऐंठने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने गिरोह के दो सदस्यों को गुरुवार को नेहरू प्लेस से गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के खिलाफ पुलिस को अब तक नौ लोगों ने शिकायत दी है। यह संख्या बढ़ने की संभावना है। पुलिस वारदात में शामिल फरार युवती की तलाश कर रही है।

पुलिस के अनुसार, दक्षिण दिल्ली के प्रतिष्ठित डॉक्टर ने बीते अक्तूबर में जामिया नगर थाने में शिकायत दी थी। पीड़ित डॉक्टर दक्षिण दिल्ली के कई अस्पतालों में काम करते हैं। इसके अलावा चैरिटेबल अस्पताल में भी अपनी सेवाएं देते हैं। चैरिटेबल अस्पताल में अक्तूबर में एक युवती मरीज बनकर आई। युवती ने बताया कि वह खाड़ी देश की रहने वाली है। इसके बाद वह कई बार अपनी स्वास्थ्य समस्या को लेकर डॉक्टर के पास आई। धीरे-धीरे दोनों में जान पहचान हो गई।

मामले की जांच के लिए स्पेशल सेल के एसीपी अतर सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम गठित की गई। पुलिस ने आरोपियों पर 20 हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर दिया था। जांच में मालूम हुआ कि 11 अप्रैल को नूर मोहम्मद नेहरु प्लेस इलाके में आने वाला है। इस सूचना पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। फिर अगले दिन महेंद्र को भी गिरफ्तार कर लिया गया।.

गिरोह के लोग शिकार से रकम की बजाय उसके डेबिट कार्ड लेते थे। ये शिकार को शौचालय जैसे सार्वजनिक स्थल पर तीन से चार डेबिट कार्ड रखने को कहते थे। फिर ये चार-पांच दिन तक रुपये निकालते रहते थे और फिर कार्ड वापस कर देते थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी तक नौ लोगों ने शिकायत दी है। इन्होंने पीड़ितों से एक करोड़ रुपये से अधिक की रकम इन्होंने वसूली है। इनके शिकार व्यापारी, होटल मालिक, आर्किटेक्ट, बिल्डर, डॉक्टर, इंजीनियर और एसी शोरूम के दो मालिक भी हैं।

Tags

दिल्ली पुलिस हनीट्रैप गिरोह का भंडाफोड़ फरार युवती की तलाश

Related Articles

More News