'एचएनएलयू कर्मचारियों का मामला श्रम मंत्री तक पहुंचा, 45 सफाई कर्मचारियों को फिर मिल सकती है नौकरी!

रायपुर. हिदायतुल्लायह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय एचएनएलयू से 45 कर्मचारियों को बिना कारण बताए नौकरी से निकालने  का मामला श्रम मंत्री तक जा पहुंचा है. हालांकि अपने पिता के निधन का शोक मना रहे मंत्रीजी जी ने कोई आदेश नही दिया है लेकिन 45 कर्मचारियों का नौकरी खोने से वे दुखी हैं. सूत्रों के मुताबिक इन कर्मचारियों को फिर से नौकरी पर रखने को कहा जा सकता है.

सूत्रों के मुताबिक जिस तरह सरकारी संस्थानों से संविदा कर्मचारी हटाए जा रहे हैं, उससे सरकार की छबि खराब हो रही है, वहीं कर्मचारी संगठन भी नाराज बताए जाते हैं. कई विश्वविद्यालयों में कुलसचिव मनमाने ढंग से कर्मचारियों को हटा रहे हैं. और अब ताजा मामला हिदायतुल्लायह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय—एचएनएलयू से 45 कर्मचारियों को बिना कारण बताए नौकरी से निकालने का है.

नौकरी से हटाए जाने से नाराज कर्मचारियों ने धरना भी दे रखा है जिसे पी.आई.एस.एफ के चेयरमैन एवं कांग्रेस नेता नितिन भंसाली ने समर्थन दिया है. उन्होंने कहा कि अभी हमने श्रम मंत्री से मिलने का फैसला किया है परंतु पितृ—शोक के चलते कुछ दिनों के लिए मामला रोका गया है, जल्द ही श्रममंत्री को इससे अवगत कराएंगे.

दूसरी ओर आंदोलनरत कर्मचारियों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ एचएनएलयू के रेजिस्ट्रार इंचार्ज अयान हाजरा से मुलाक़ात की. मुलाक़ात के दौरान नितिन भंसाली ने विश्वविद्यालय प्रशासन को कर्मचारियों की समस्या से अवगत कराया एवं प्लेस्मेंट एजेन्सी द्वारा की गई गड़बड़ियों पर सख़्त से सख़्त कार्यवाही करने की माँग जिस पर एचएनएलयू प्रशासन ने कर्मचारियों के हित में उचित कदम उठाए जाने का आश्वाशन दिया.
     
नितिन भंसाली ने धरना स्थल पर पहुंचकर आंदोलनकारी श्रमिकों से भी चर्चा की एवं उनकी समस्याओं को सुना. पिछले तेरह दिनों से तपती धूप में आंदोलन कर रहे इन सफाई कर्मचारियों की समस्या सुनते ही नितिन भंसाली ने विश्वविद्यालय प्रशासन से कर्मचारियों के मेहनत की रुकी राशि को भी जल्द से जल्द भुगतान किये जाने की माँग की है.


Tags

हिदायतुल्लायह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय एचएनएलयू 45 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने

Related Articles

More News