बाराद्वार शराबबंदी के तीन आंदोलनकारी गिरफतार कर जेल भेजे गए, अमित जोगी ने कहा, 'मैं खुद इनका केस लडूंगा' निशाने पर विधानसभा अध्यक्ष

रायपुर. आज देर रात बाराद्वार शराबबंदी का आंदोलन चला रहे आंदोलनकारियों को तुलेश त्रिवेदी, अर्जुन राठौड़ और महेश यादव को शासकीय कार्य में व्यवधान के जुर्म में गिरफतार कर जेल भेज दिया गया है. इस पर जनता कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा है कि वकील होने के नाते वे खुद इनका केस लड़ेंगे तथा शराब माफियाओं के साथ बिक चुकी सरकार को बेनकाब करेंगे.

सोशल मीडिया में जारी एक बयान में श्री जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कब से दारू बेचना &दरुओं से लोगों को बचाना शासकीय_कार्य हो गया है? जितनी दारू माफ़िया की ग़ुलामी मोर #दारू_वाले_कका भूपेश बघेल जी कर रहें हैं उतनी तो #दारू_वाले_बाबा डॉ रमनसिंह ने भी नहीं की होगी.

एक वक़ील होने के नाते कल मैं ख़ुद यानि अमित जोगी कोर्ट में तीनों का पक्ष रखूँगा और शराब माफ़िया से बिक चुकी सरकार को बेनक़ाब करूँगा. तब तक बाराद्वार की नारीशक्ति ने तय किया है कि किसी के घर में चूल्हा नहीं जलेगा. ,

मालूम होवे कि पूर्व विधायक अमित जोगी ने कल बाराद्वार में शराब दुकान में पुलिस के तगड़े बंदोबस्त के बावजूद ताला लगाकर 6 दिनों से आमरण अनशन पर बैठे भाई अर्जुन राठौड़, तुलेश त्रिवेदी और महेश यादव को जल पिलाकर अनशन समाप्त कराया। साथ ही ज़िला आबकारी अधिकारी से लिखित में दुकान बंद करने का प्रस्ताव राज्य शासन की स्वीकृति के लिए भिजवाया।

इस मामले में जनभावना- विशेषकर छत्तीसगढ़ की नारी-शक्ति की भावना- का सम्मान करते हुए स्कूल के सामने, राष्ट्रीय राज्य मार्ग पर, पंचायत की कड़ी आपत्ति के बावजूद नियम विरुद्ध खुली दुकान को बंद कराने का आग्रह मैं स्थानीय विधायक और विधानसभा के अध्यक्ष डॉक्टर चरणदास महंत से पुनः करता हूँ। नारी शक्ति के इस ज़बरदस्त आंदोलन की तस्वीरें आप के साथ साझा कर रहा हूँ

Tags

बाराद्वार शराबबंदी आंदोलनकारि गिरफतार जेल भेज गया अमित जोगी

Related Articles

More News