पाचोरी गांव में अनोखी पहल,150 सिकलीगरों ने कहा - न हथियार बेचेंगे, न बनाएंगे

बुरहानपुर। जिले का पाचोरी गांव जो देसी कट्टे और पिस्टल से लेकर अन्य तरह के हथियार बनाने और उनकी तस्करी के लिए बदनाम है, अब इस गांव ने अनोखी पहल की है। यहां रविवार को देर रात तक अपर कलेक्टर शीलेंद्रसिंह ने चौपाल लगाकर सिकलीगरों समेत गांव के अन्य लोगों को समझाइश दी। जिसके बाद इस गांव के निवासी  जगमोहन सिंह सहित करीब डेढ़ सौ लोगों ने वादा किया कि वे अब हथियार बनाने और बेचने का धंधा नहीं करेंगे। 

जानकारी के मुताबिक शीलेंद्रसिंह इस गांव में चार दिन पहले भी पहुंचे थे और लोगों से बदनामी वाला काम छोड़कर समाज की मुख्य धारा में शामिल होने का आग्रह किया था। वहीं अपर कलेक्टर शीलेंद्रसिंह ने गांव के लोगों से वादा किया कि चुनाव आचार संहिता खत्म होने के बाद वे मनरेगा सहित अन्य योजनाओं के जरिए यहां के लोगों को रोजगार के साधन उपलब्ध कराएंगे। इस दौरान गांव के लोगों ने खुलकर अपनी समस्याएं रखी।

अपर कलेक्टर शीलेंद्रसिंह ने कहा कि यदि इस गांव के लोग समाज की मुख्य धारा में शामिल होने के इच्छुक हैं तो जिला प्रशासन भी उनकी मदद करेगा। प्रशासन ने इस गांव में रहने वाले सिकलीगरों का काम बंद कराने बहुत प्रयास किए थे लेकिन रोजगार का साधन न हो पाने के कारण ये लोग इस पेशे में फिर से आ गए।


Tags

Burhanpur Weapons

Related Articles

More News