इसरो ने किया रिसेट-2बी उपग्रह का सफल प्रक्षेपण, बादल होने के बाद भी कर सकेंगे आकाश की निगरानी

श्रीहरिकोटा: अंतरिक्ष में भारत को एक और बड़ी कामयाबी मिली है. इसरो ने श्रीहरिकोटा से आज सुबह 5.30 बजे रीसेट टू बी सैटेलाइट का सफल प्रक्षेपण किया है. ये प्रक्षेपण पीएसएलवी सी46 रॉकेट से किया गया है. ये चौथा रीसेट सैटेलाइट है. इस प्रेक्षपण के बाद अब ये सैटैलाइट हर मौसम में बादलों के बावजूद सही तस्वीरें ले सकता है. मतलब ये भी कि खुफिया गतिविधियों में इससे काफी मदद मिलेगी. यह उपग्रह 555 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थापित किया जाएगा.

RISAT 2B सैटेलाइट से आपदा, सुरक्षाबल और सीमा पर नजर रखी जा सकेगी. रिसेट हमेशा काम करती रहे इसको लेकर 300 किलोग्राम के रिसेट-2बी सैटेलाइट के साथ सिंथेटिक अपर्चर रडार (सार) इमेजर को भी अंतरिक्ष में भेजा गया है. सीधे तौर पर यह कह सकते हैं कि ये यह उपग्रह इमेजेस लेने में सक्षम होगा, जिससे दुश्मन देश की हर एक गतिविधि पर नजर रखी जा सकेगी.

सैटेलाइट के जरिए सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकथाम में मदद मिलेगी. इतना ही नहीं आने वाले दिनों में इसरो रिसैट-2बी के अलावा इसकी जैसी पांच सैटेलाइट को भी लॉन्च करेगा. जिसके नाम इस प्रकार है- रीसैट-2बीआर1, रीसैट-2बीआर2, रीसैट-1ए, रीसैट-1बी, रीसैट2ए.

रिसेट-2बी सैटेलाइट क्लाउडी कंडीशन यानी घने बादलों और खराब मौसम की स्थिति में भी हाई रेजोल्यूशन की तस्वीरें लेने में सक्षम है. यह उपग्रह हर मौसम में चाहे रात हो, बादल हो या बारिश हो रही हो ऑब्जेक्ट की सही तस्वीर जारी कर सकता है. इससे आपदा राहत कार्य में लगे लोगों और सुरक्षाबलों को काफी मदद मिलेगी.

Tags

श्रीहरिकोटा भारत को बड़ी कामयाबी रीसेट टू बी सैटेलाइट

Related Articles

More News