G20 Summit : मोदी की कूटनीति लाई रंग, 2022 का जी-20 शिखर सम्मेलन होगा भारत में

ब्यूनस आयर्स. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को घोषणा की कि भारत 2022 में अगले जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा। 2022 में भारत अपनी आजादी की 75वीं सालगिरह मनाएगा। जी-20 दुनिया की 20 बड़ी अर्थव्यवस्थाओं का समूह है। दो दिवसीय शिखर सम्मेलन के समापन समारोह के दौरान प्रधानमंत्री ने इस आशय की घोषणा की। साल 2022 में इस अंतरराष्ट्रीय फोरम की मेजबानी इटली को करनी थी। मेजबानी की भूमिका भारत को सौंपने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने इटली को धन्यवाद दिया।

शनिवार को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों से मुलाकात की। जी-20 शिखर सम्मेलन से हुई मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं ने व्यापार और लोगों से लोगों के बीच संपर्क बढ़ाकर दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझीदारी को और गहरा करने और विविधता देने के उपायों पर चर्चा की।

फ्रांस के साथ हुए राफेल लड़ाकू जेट सौदे पर विपक्ष के हंगामे के बीच दोनों देशों के नेताओं के बीच यह मुलाकात हुई है। भारत ने फ्रांस के साथ सितंबर 2016 में 36 राफेल लड़ाकू जेट खरीद के लिए अंतर सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किया था। इस सौदे पर करीब 58000 करोड़ रुपये खर्च का अनुमान है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूरोपियन काउंसिल प्रेसिडेंट डोनाल्ड टस्क, यूरोपियन कमीशन प्रेसिडेंट जेआन-क्लाउडे जनकेर और जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल के साथ मुलाकात की। यहां चल रहे जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर हुई मुलाकात में प्रधानमंत्री ने हर तरीके से आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त प्रयास मजबूत करने सहित भारत और यूरोपीय संघ (ईयू) के संबंध को मजबूत करने के उपायों पर चर्चा की।


नवंबर में हुई भारत-ईयू वार्षिक आतंकवाद विरोधी एवं राजनीतिक वार्ता में भारत और ईयू ने आतंकवाद और कट्टरपंथ से प्रभावी मुकाबला करने के लिए सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया था। दोनों पक्ष हिंसक चरमपंथ और कट्टरता से मुकाबला करने के लिए सहयोग बढ़ाने के उपाय तलाशने पर सहमत हैं। इसके साथ ही रासायनिक, जैविक, रेडियो सक्रिय एवं परमाणु खतरे से मुकाबला करने पर भी दोनों पक्ष राजी हैं।
मोदी ने ट्वीट में कहा है, "ईयू कमीशन प्रेसिडेंट जनकेर और ईयू काउंसिल चेयरमैन डोनाल्ड टस्क के साथ बहुत अच्छी बातचीत हुई। हमारी बातचीत भारत एवं ईयू के बीच दोस्ती बढ़ाने के गिर्द घूमती रही। हमने आतंकवाद के उन्मूलन से संबंधित पहलुओं पर भी चर्चा की।"


मोदी और मर्केल ने तेजी से बदल रही दुनिया में बहुपक्षवाद के महत्व पर विचारों का आदान-प्रदान किया। इसके साथ ही दोनों नेताओं ने आतंकवाद से मुकाबले के लिए सहयोग मजबूत करने की जरूरत पर भी चर्चा की।

Tags

G20 India Narendra Modi Shikhar Sammelan

Related Articles

More News