उदयोगों को कोल ब्लॉक आबंटन में गड़बड़ी के खिलाफ 'आप पार्टी की 11 सदस्यीय जांच टीम, फारेस्ट क्लियरेंस शक के दायरे में

रायपुर. आम आदमी पार्टी ने सरगुजा के परसा केते कोल ब्लॉक आबंटन के जांच हेतु  11 सदस्यीय जांच दल गठित किया है। जांच दल में कोमल हुपेंडी, संकेत ठाकुर, दुर्गा झा आदि शामिल हैं। उनकी पार्टी बाद में इस संबंध में मुख्यमंत्री व राज्यपाल से मिलकर उन्हें ज्ञापन भी सौंपेगी।

पार्टी के प्रदेश संयोजक कोमल हुपेंडी ने कहा है कि प्रदेश की परसा केते कोल ब्लॉक का आबंटन राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम को किया गया था। इस कोल ब्लॉक के 21 सौ एकड़ वन क्षेत्र में खनन के लिए वन विभाग, छत्तीसगढ़ शासन के अतिरिक्त सचिव की आपत्ति के बावजूद केंद्रीय पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा स्टेज वन का फारेस्ट क्लियरेंस 15 जनवरी 2019 को जारी कर दिया गया। इसके अलावा और भी कई अनियमितताएं प्रक्रिया में बरती गईं।

श्री हुपेंडी ने इस मामले में केंद्र और राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि फर्जी ग्राम सभा का आयोजन कर कोल ब्लॉक आबंटन का अनुमोदन ग्राम सभा से करवाया गया जो कि पूर्णत: गलत है। फतेहपुर गांव में भारी पुलिस बल तैनात कर जबरन सर्वे करवाया जा रहा हैं जिसका ग्रामीण विरोध कर रहे हैं।  सरगुजा जिले के उदयपुर जिले में संचालित परसा ईस्ट केते बासन कोयला खदान एवं प्रस्तावित परसा कोयल ब्लॉक, इन दोनों परियोजनाओं को यहां के निवासरत आदिवासी और अन्य परपरागत वन समुदाय के अधिकारों का हनन कर, संवैधानिक प्रावधानों, नियम प्रक्रियाओं की धज्जियां उड़ाकर संचालित किया जा रहा हैं। कम्पनी और शासकीय कर्मचारी मिलकर षड्यंत्र पूर्वक फर्जी जानकारियों के आधार पर फर्जी ग्रामसभाओं के प्रस्ताव तैयार कर इन खनन परियोजनाओं को स्वीकृतियां प्रदान करवा रहे हैं। प्रभावित ग्रामीणों द्वारा कई बार शासन प्रशासन के समक्ष आवेदन लिखित रूप में सोंपे गए लेकिन आवेदन पर कार्यवाही नहीं की गई। जबकि वंहा के ग्रामीण लगातार इसका विरोध कर रहे हैं।

प्रदेश सचिव उत्तम जायसवाल ने कहा है कि पार्टी के पास महत्वपूर्ण दस्तावेज उपलब्ध है जिसमे राजस्थान सरकार की कम्पनी का कहना है कि कोल ब्लॉक को सबलेट नहीं किया गया है। जबकि मामला सबलेशन का नहीं स्वामित्व का है।

Tags

आम आदमी पार्टी केते कोल ब्लॉक आबंटन 11 सदस्यीय जांच दल

Related Articles

More News