T-20 से आउट : तो क्या खत्म हो गया है महेंद्र सिंह धोनी का खेल?

नई दिल्ली. महेंद्र सिंह धोनी की गिनती उन नायाब खिलाड़ियों में होती है जो बरसों में एक बार पैदा होते हैं। लेकिन अबतक अपना मुस्तकबिल खुद लिखते आए पूर्व कप्तान के लिए अगले साल इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप तक राह उतनी आसान नहीं होगी।

भारत की टी-20 टीम से बाहर होने के बाद संभवत: क्रिकेट का यह महासमर आखिरी मौका होगा जब कभी ‘कैप्टन कूल’ तो कभी ‘मुकद्दर के सिकंदर’ जैसी उपमाओं से नवाजे गए इस दिग्गज को आखिरी बार हम टीम इंडिया की जर्सी में देखेंगे। राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने उन्हें सीमित ओवरों के दो में से एक फॉर्मेट में बाहर करके पहले संकेत दे दिए हैं।

बीसीसीआई के एक आला अधिकारी ने कहा, ‘यह तय है कि ऑस्ट्रेलिया में 2020 में होने वाला टी-20 विश्व कप धोनी नहीं खेलेंगे, लिहाजा उन्हें टीम में बनाए रखने का कोई औचित्य नहीं था।’

उन्होंने कहा, ‘चयनकर्ताओं और टीम प्रबंधन ने इस पर काफी बात की है। विराट कोहली और रोहित शर्मा भी चयन समिति की बैठक में मौजूद थे ।’ उन्होंने कहा, ‘क्या आपको लगता है कि उनकी रजामंदी के बिना चयनकर्ता यह फैसला ले सकते थे।’

धोनी ने 2018 में सात टी-20 मैच खेले और उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी साउथ अफ्रीका के खिलाफ 28 गेंद में नाबाद 52 रन की रही। बाकी छह पारियों में उन्होंने 51 गेंद में 71 रन बनाए। इंग्लैंड में विश्व कप में धोनी विकेटकीपर के तौर पर पहली पसंद होंगे, लेकिन बहुत कुछ इस पर निर्भर करेगा कि वेस्ट इंडीज के खिलाफ मौजूदा सीरीज के बाकी तीन मैचों में उनका प्रदर्शन कैसा रहता है।

अगले दो महीने तक उन्हें मैच अभ्यास भी नहीं मिल सकेगा, क्योंकि भारत अगले वनडे जनवरी से मार्च के बीच खेलेगा। चयन समिति के प्रमुख एमएसके प्रसाद विकेटकीपर के रूप में दूसरे विकल्प पर बात कर चुके हें और ऋषभ पंत पर टीम प्रबंधन ने भरोसा जताया है। अब सवाल यह है कि बाकी तीन मैचों में धोनी का बल्ला नहीं चल पाता है तो क्या होगा।

Tags

M s dhoni T20 Cricket match

Related Articles

More News