विधानसभा का बजट सत्र : स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर मुखर हुए भाजपा विधायक, बहस के बीच किया वॉकआउट, बृजमोहन अग्रवाल ने उठाया स्वास्थ्य का मुददा

रायपुर. आज विधानसभा बजट सत्र की कार्रवाई प्रारंभ हुई तो बीजेपी और विपक्षी सदस्यों ने स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर सदन में जमकर नारेबाजी की और सदन से वॉक आउट कर लिया।

बीजेपी के सदस्यों ने आरोप लगाया कि प्रदेश में आयुष्यमान भारत और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य योजना का लाभ मरीजों को नहीं मिल रहा है। अस्पतालों में अव्यवस्था का आलम है. निजी अस्पतालों को योजनाओं के तहत पेमेंट नहीं हो रहे हैं लिहाजा हालात बिगड़ रहे हैं। मरीजों का वक्त मेें इलाज नहीं मिल रहा वे असमय मौत के शिकार हो रहे हैं।

बीजेपी विधायक बृजमोहन अग्रवाल कहा कि प्रदेश में आयुष्मान योजना और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत भुगतान नहीं किये जाने की वजह से हालात बिगड़ रहे है। अस्पतालों को पेमेंट नहीं हो रहा. इस वजह से अस्पताल मरीजों का इलाज नहीं कर रहे। इलाज नहीं मिलने की वजह से मरीजों की मौत हो रही है।

जेसीसीजे विधायक अजीत जोगी ने प्रदेश के शासकीय अस्पतालों में उपलब्ध डायलिसिस मशीनें और डॉक्टरों  की सुविधाओ को लेकर सवाल उठाया। जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री टीएस ने बताया कि 15 जनवरी 2019 तक  कुल 89 डायलिसिस मशीन उपलब्ध है। वहीं नेफ्रालाजिस्ट डॉक्टरों की कमी है।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने पूछा कि यूनिवर्सल हेल्थ स्किम में कितनी राशि तक का इलाज किया जा सकता है? सिंहदेव ने कहा ये स्किम नहीं है ये केयर है। हम इसे लागू कर रहे हैं। इसमें थोड़ा समय लगेगा। तभी बीजेपी विधायकों ने एक साथ कहा यहां तो मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

Tags

विधानसभा बजट सत्र बृजमोहन अग्रवाल स्वास्थ्य बीमा योजना

Related Articles

More News