Breaking Newsछत्तीसगढ़

फिर एक हाथी के शावक की मौत, नहीं थम रहा सिलसिला

कोरबा । प्रदेश में हाथियों की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। एक बार फिर हाथी के बच्चे का शव तालाब किनारे पड़ा हुआ मिला है। हाथी के बच्चे की मौत कैसे हुई इसकी स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है। सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच चुकी है। ज्ञातव्य है कि 10 माह में करीब 15 हाथियों की मौत हो चुकी है, जिसमे 3 बच्चे और एक मादा हाथी थे। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार कटघोरा वन मंडल में केदई रेंज के लालपुर गांव में सोमवार सुबह तालाब किनारे हाथी के बच्चे का शव पड़े होने की सूचना मिली थी। बच्चे की सूंड़ में चोट के निशान भी हैं। जिससे यह आशंका जताई जा रही है कि बच्चे की मौत चोट लगने से हुई है। हालांकि अभी स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है। सूचना के बाद यहां वन अमला पहुंचा। इस घटना ने कटघोरा वन मंडल क्षेत्र में हाथियों और उनके बच्चों की लगातार मौजूदगी वह हाल ही में हुई मौत के बाद भी इनकी निगरानी में अनदेखी की लापरवाही फिर से उजागर की है। 
00 दलदल में फंस कर हुई थी हाथी की मौत 
गौरतलब है कि कुछ माह पहले भी केंदई वन परिक्षेत्र के गांव कुल्हारिया में एक मादा हाथी की दलदल में फंसने से मौत हो गई थी। इसके बाद 17 अक्टूबर को पानी में डूबने से हाथी के बच्चे की मौत हुई। तब वन विभाग के अफसरों ने बताया था कि बच्चा अपने झुंड से अलग हो गया होगा। यह एक नेचुरल मौत है। इसमें किसी प्रकार की जांच का सवाल नहीं है।

Back to top button