CRIME

4 करोड़ की ज्वैलरी लूटने के बाद Paytm पर 100 रुपये खर्च करना लूटेरों को पड़ा भारी, 24 घंटे में चढ़े पुलिस के हत्थे

नई दिल्ली। जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया डिजिटल ट्रांजेक्शन (Digital Transaction) ही दिल्ली में 4 करोड़ रुपये की ज्वैलरी लूटने वालों के गले का फंदा बन गया. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने लूट की घटना के महज 24 घंटे के अंदर लुटेरों को 100 रुपये के पेटीएम (Paytm) ट्रांजेक्शन से मिले सुराग की मदद से दबोच लिया. चारों लुटेरे जयपुर के रहने वाले हैं.

बुधवार को लूटी गई थी जयपुर से आई ज्वैलरी

दरअसल सेंट्रल दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में बुधवार सुबह 4.45 बजे चार युवकों ने 4 करोड़ रुपये की ज्वैलरी का कंसाइनमेंट लूट लिया था. पुलिसकर्मी का भेष बनाकर आए युवकों ने दो लोगों की आंखों में मिर्च पाउडर फेंकने के बाद इस लूट को अंजाम दिया था. दिल्ली पुलिस ने इस घटना की जांच शुरू की थी.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, लूट का शिकार हुए लोग कीमती सामान इधर से उधर पहुंचाने का काम करने वाली प्राइवेट कूरियर कंपनी के कर्मचारी थे. ये कर्मचारी ज्वैलरी लेकर सुबह करीब 4.30 बजे अपने ऑफिस से चंडीगढ़ और लुधियाना पहुंचाने के लिए निकले थे. इसी दौरान 4 लोगों ने उनके साथ लूट को अंजाम दे दिया.

200 CCTV कैमरों की फुटेज खंगालने पर मिले आरोपी

पुलिस के मुताबिक, जांच के दौरान घटनास्थल के आसपास करीब 200 CCTV कैमरों की फुटेज को खंगालने पर आरोपियों की पहचान हुई. फुटेज से पता चला कि लुटेरे पिछले 15 दिन से कंपनी के आसपास चक्कर काट रहे थे.

फुटेज में ही दिखा लुटेरे का पेटीएम ट्रांजेक्शन

सूत्रों के मुताबिक, जांच के दौरान पुलिस को एक CCTV वीडियो में एक आरोपी सुबह-सुबह चाय की दुकान पर खड़ा होकर चाय पीता दिखाई दिया. कुछ देर बाद एक कैब चाय के दुकान के पास आती है, जिसे आरोपी ने रोककर ड्राइवर से बातचीत की. इसके बाद वे ड्राइवर से 100 रुपये लेते दिखाई दिए. कैब ड्राइबर से बातचीत के दौरान आरोपी को मोबाइल फोन भी इस्तेमाल करते हुए देखा गया.

इसके बाद पुलिस ने पहले चाय की दुकान के मालिक से पुछताछ की. चायवाले ने बताया कि आरोपी ने एक कप चाय खरीदी थी, लेकिन उसके पास नकद पैसे नहीं थे. इसके बाद ही उसने कैब को रोककर ड्राइवर से 100 रुपये लिए थे. पुलिस ने कैब चालक की डिटेल्स निकालकर उससे पूछताछ की. ड्राइवर ने बताया कि आरोपी ने उसे पेटीएम के माध्यम से 100 रुपये ट्रांसफर किए थे, जिसके बदले उसने नकदी दी थी.

पेटीएम हेडऑफिस से निकाली आरोपी की डिटेल

कैब ड्राइबर से पुलिस ने आरोपी की पेटीएम डिटेल्स ली और कंपनी हेडऑफिस से संपर्क किया. वहां से पता लगा कि आरोपी नजफगढ़ का रहने वाला है. पुलिस टीम को नजफगढ़ में आरोपी के घर भेजा गया, लेकिन पता लगा कि आरोपी पहले ही वहां से अपने साथियों के साथ भाग गया है. इसके बाद मोबाइल सर्विलांस की मदद से उसकी लोकेशन तलाशी गई. सर्विलांस पर मिली लोकेशन की मदद से लुटेरों का पीछा करना शुरू किया गया. सभी लुटेरे जयपुर के एक फ्लैट में जाकर छिप गए, जहां से पुलिस टीम ने उन्हें दबोच लिया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button