NationalPolitical

पंजाब में भगवंत मान के 6 माह हुए पूरे, आप ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड

चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी(आप) ने शनिवार को पंजाब की जनता के सामने अपनी सरकार के छह महीने का प्रभावशाली रिपोर्ट कार्ड पेश किया. शनिवार को पार्टी मुख्यालय में आप प्रवक्ता जगतार सिंह संघेड़ा और गोविंदर मित्तल के साथ एक प्रेस को संबोधित करते हुए ‘आप’ पंजाब के मुख्य प्रवक्ता मलविंदर सिंह कंग ने कहा कि पिछली सरकारों ने केवल जनता को बेवकूफ बनाया और टैक्स के पैसे से अपनी तिजोरियां भरी. लेकिन मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में आप सरकार अपने सभी वादों को पूरा कर रही है. सरकार बनने के महज 6 महीने में ही मान सरकार ने जनता के हित में कई ऐतीहासिक फैसले लिए हैं.

पहले की सरकारों से पूछा सवाल

उन्होंने कांग्रेस और अकाली दल से सवाल किया और पूछा कि वे साबित करें कि क्या उनकी सरकारों ने पहले छह महीनों में आप सरकार से ज्यादा काम किया था? कंग ने कहा कि मैं कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा और शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल को चुनौती देता हूं कि वे अपने दशकों पुराने शासन के दौरान सरकार बनने के छह महीने के भीतर किए गए किसी भी बड़े काम को बताएं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस और अकाली दल की सरकारों ने केवल लोगों को लूटा है. दोनों पार्टियों के नेता आप सरकार के साफ-सुथरे कामों से बौखला गए हैं इसलिए वह झूठे आरोप लगाकर मान सरकार को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं.

‘आप ने पूरा किया वादा’

आप सरकार के जन-कल्याण कामों का हवाला देते हुए कंग ने कहा कि मान सरकार ने अपने चुनावी वादे के अनुसार 20,000 नौकरियां दी हैं और 9000 संविदा कर्मचारियों को नियमित किया है. उन्होंने कहा कि पंजाब कृषि प्रधान राज्य है,पंजाब की पूरी अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर है, बावजूद इसके पिछली सरकारें इसमें सुधार करने में पूरी तरह विफल रही. लेकिन पंजाब के इतिहास में पहली बार मान सरकार ने मूंग की खरीद पर एमएसपी जारी की.

पंजाब के पानी और मिट्टी की उर्वरता को बचाने के लिए पंजाब सरकार किसानों को 1500 रुपये की प्रोत्साहन राशि दे रही है. मालवा क्षेत्र के कपास किसानों के 2020 से लंबित मुआवजे को भी मान सरकार ने मंजूरी दी. वहीं, गन्ना किसानों के लंबे समय से लंबित बकाया का भी भुगतान कर दिया गया है और डिफॉल्टर चीनी मिलों की संपत्तियों को कुर्क कर नीलाम किया जा रहा है. कंग ने कहा कि पहले किसानों से 5000 रुपये प्रति हॉर्स पावर वसूले जाते थे लेकिन मान सरकार ने किसानों को आर्थिक राहत देने के लिए इसे आधा किया एवं पंजाबियों को 600 यूनिट मुफ्त बिजली दे रही है. इस बार लगभग 80 प्रतिशत घरों के जीरो बिल आए हैं. इसी तरह पंजाब रोडवेज हमेशा घाटे में रहा, निजी ट्रांसपोर्टरों का बेड़ा बड़ा होता रहा, लेकिन पंजाब रोडवेज घाटे में चला गया. लेकिन अब वह मुनाफे में है. सरकार की ओर से एनआरआई के लिए दिल्ली एयरपोर्ट के लिए वॉल्वो बस भी शुरू कर दी गई है. पंजाब में खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से ‘खेडां वतन पंजाब दियां’ की राज्य स्तरीय शुरुआत की.

‘खेल पर शुरू किया काम’

अकाली दल पर हमला बोलते हुए कंग ने कहा कि बादल सरकार में भी कबड्डी टूर्नामेंट होते थे,लेकिन उस समय खिलाड़ियों के बजाए बॉलीवुड कलाकरों पर पैसा खर्च किया जाता था. इसके उल्ट मान सरकार ने बलबीर सिंह सीनियर के नाम पर खेल छात्रवृत्ति शुरू की. सरकार ने राष्ट्रमंडल खेलों के नायकों को सम्मानित किया.

‘भ्रष्टाचार को आप ने किया कंट्रोल’

पिछली सरकारों के दौरान भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा, जिस कारण पंजाब पर 3 लाख करोड़ रुपये का कर्ज चढ़ा. एक तरफ राज्य वित्तीय संकट से जूझ रहा था, वहीं बादल के सुखविलास और कैप्टन अमरिंदर सिंह के सिसवां के फार्म हाउस को विदेशी पत्थरों से सजाया जा रहा था. सरकार बनते ही सबसे पहले मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्ट पूर्व मंत्रियों और वरिष्ठ नौकरशाहों पर कार्रवाई की और उन्हें जेल भेजा. सरकार की यह कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी, क्योंकि आप की भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button