छत्तीसगढ़अन्य ख़बरें

छत्तीसगढ़िया ओलम्पिक गांव से लेकर राज्य स्तर तक 6 अक्टूबर से प्रारंभ होकर 6 जनवरी तक चलेगा

राजीव युवा मितान क्लब के विधानसभा संयोजक रेखराज पटेल ने जानकारी देते हुए बताया कि पारंपरिक खेल गतिविधियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. प्रतिभागियों को मंच प्रदान करने, उनमें खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ाने व खेल भावना का विकास करने के लिए मुख्यमंत्री बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़िया ओलम्पिक 2022-23 का आयोजन किया जा रहा है. छत्तीसगढ़िया ओलम्पिक में आयु वर्ग को तीन वर्गों में बांटा गया है. प्रथम वर्ग 18 वर्ष की आयु तक फिर 18-40 वर्ष आयु सीमा तक, वहीं तीसरा वर्ग 40 वर्ष से अधिक उम्र के लिए है. प्रतियोगिता में महिला व पुरुष दोनों वर्ग के प्रतिभागी हिस्सा ले सकेंगे. उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ की पारंपरिक खेल स्पर्धा दलीय व एकल श्रेणी में होगी. ओलम्पिक 2022-23 में 14 प्रकार के पारंपरिक खेलों को शामिल किया गया है. इसमें दलीय श्रेणी खेल विधा में गिल्ली डंडा, पिट्टूल, संखली, लंगड़ी दौड़, कबड्डी, खो-खो, रस्साकसी और बांटी (कंचा) जैसे खेल शामिल किए गए हैं. वहीं एकल श्रेणी की खेल विधा में बिल्लस, फुगड़ी, गेड़ी दौड़, भंवरा, 100 मीटर दौड़ और लंबी कूद शामिल है. छत्तीसगढ़िया ओलम्पिक का आयोजन 6 स्तर में निर्धारित किए गए हैं. इन स्तरों के अनुसार ही खेल प्रतियोगिता के चरण होंगे. इसमें सर्वप्रथम गांव में सबसे पहला स्तर राजीव युवा मितान क्लब का होगा. वहीं दूसरा स्तर जोन है, जिसमें 8 राजीव युवा मितान क्लब को मिलाकर एक क्लब होगा. फिर विकासखंड और नगरीय क्लस्टर स्तर, जिला, संभाग और अंतिम में राज्य स्तर खेल प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी.

प्रथम चरण के छत्तीसगढ़िया ओलंपिक में राजीव युवा मितान क्लब की अहम भूमिका होगी उनके द्वारा अपने अपने वार्ड में छत्तीसगढ़ ओलंपिक का व्यापक प्रचार करते हुए अधिक से अधिक नागरिकों को खेल में हिस्सा लेने के लिए प्रेरित किया जा रहा है साथ ही क्लब के सदस्यों द्वारा खेलों में सक्रिय भूमिका निभाई जाएगी।

छत्तीसगढ़िया ओलम्पिक में आयु वर्ग को तीन भागों में बांटा गया है, इसमें पहला वर्ग 18 वर्ष की आयु तक, फिर 18-40 वर्ष आयु सीमा तक, वहीं तीसरा वर्ग 40 वर्ष से अधिक उम्र के लिए है. इस प्रतियोगिता में महिला और पुरुष दोनों वर्ग में प्रतिभागी होंगे।

14 प्रकार के पारम्परिक खेलों को किया गया है शामिल

14 प्रकार के पारम्परिक खेलों को शामिल किया गया है. इसमें दलीय श्रेणी गिल्ली डंडा, पिट्टूल, संखली, लंगड़ी दौड़, कबड्डी, खो-खो, रस्साकसी और कंचा जैसी खेल विधाएं शामिल की गई हैं। वहीं, एकल श्रेणी की खेल विधा में बिल्लस, फुगड़ी, गेड़ी दौड़, भंवरा, 100 मीटर दौड़ एवं लम्बी कूद शामिल हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!