दुनिया

पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद चीन ने सैन्य अभ्यास की घोषणा की : रिपोर्ट

बीजिंग, 4 अगस्त अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी की द्वीप की यात्रा के बाद ताइवान के आसपास के समुद्र में आवश्यक और न्यायसंगत सैन्य अभ्यास के पांच दिनों को अंजाम देगा, जो बीजिंग की बार-बार चेतावनी की अवहेलना में आया था, यह बयान चीन ने दिया है. एक मीडिया रिपोर्ट ने यह जानकारी दी. बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने यह घोषणा पेलोसी के बुधवार को ताइवान से अपनी संक्षिप्त और विवादास्पद यात्रा के बाद छोड़ने के तुरंत बाद की.

रिपोर्ट में चीन के हवाले से कहा गया है, “अभ्यास दुनिया के कुछ सबसे व्यस्त जलमार्गो में होगा और इसमें लंबी दूरी की गोला बारूद की शूटिंग शामिल होगी.”

इस बीच जवाब में ताइवान ने कहा कि, उसने उन्हें चेतावनी देने के लिए पहले ही जेट विमानों को खंगाल डाला था.

इसने जहाजों को अभ्यास से बचने के लिए वैकल्पिक मार्ग खोजने के लिए भी कहा है और वैकल्पिक विमानन मार्ग खोजने के लिए पड़ोसी जापान और फिलीपींस के साथ बातचीत कर रहा है.

राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने कहा कि देश जानबूझकर बढ़े हुए सैन्य खतरों का सामना कर रहा है.

बीबीसी ने बताया कि, 25 वर्षो में ताइवान की यात्रा करने वाली सबसे वरिष्ठ अमेरिकी राजनेता पेलोसी ने मंगलवार को एक व्यापक एशियाई दौरे के हिस्से के रूप में चीन को इसके खिलाफ चेतावनी देने के बावजूद रोक दिया.

अपनी यात्रा के बाद एक बयान में, “हाउस स्पीकर ने कहा कि चीन दुनिया के नेताओं या किसी को भी अपने समृद्ध लोकतंत्र का सम्मान करने के लिए ताइवान की यात्रा करने से नहीं रोक सकता है, इसकी कई सफलताओं को उजागर करने और निरंतर सहयोग के लिए हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि करने के लिए.”

अमेरिका पर तथाकथित लोकतंत्र की आड़ में चीन की संप्रभुता का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए, चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा, “आग से खेलने वालों का अच्छा अंत नहीं होगा और चीन को ठेस पहुंचाने वालों को दंडित किया जाएगा.”

राज्य समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने बताया, चीन के विदेश मंत्रालय ने चीन में अमेरिकी राजदूत निकोलस बर्न्‍स को बुधवार को पेलोसी की यात्रा को एक-चीन सिद्धांत के गंभीर उकसावे और उल्लंघन के रूप में विरोध करने के लिए तलब किया.

ताइपे में रक्षा मंत्रालय ने कहा कि चीन ने मंगलवार को अकेले ताइवान के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र में 21 विमान भेजे हैं.

कई दिनों तक पेलोसी ने उन खबरों की पुष्टि करने से इनकार कर दिया था कि वह यात्रा करेंगी और ताइवान उनके आधिकारिक यात्रा कार्यक्रम पर नहीं था.

पेलोसी के ताइपे आने के कुछ मिनट बाद ही द वाशिंगटन पोस्ट में एक संपादकीय प्रकाशित किया गया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!