कॉर्पोरेट

एफपीआई ने 30 जून तक 5 कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी तेजी से बढ़ाई

मुंबई, 24 अगस्त विदेशी निवेशकों ने अप्रैल-जून तिमाही में भारतीय कंपनियों में अधिक दिलचस्पी दिखाई है, जिससे पांच कंपनियों में इन संस्थाओं की हिस्सेदारी में तेजी से वृद्धि हुई है.

यह वृद्धि इस साल जुलाई के अंत से खरीदार बनने से पहले पिछले 9 महीनों में इक्विटी के शुद्ध विक्रेता बने रहने के बाद भी है.

प्रभुदास लीलाधर द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, विदेशी निवेशकों ने 31 मार्च को 0.64 प्रतिशत की तुलना में आरएचआई मैग्नेसिटा इंडिया लिमिटेड में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 2.2 प्रतिशत कर दी.

जबकि, एसाब इंडिया लिमिटेड में हिस्सेदारी 0.21 प्रतिशत से बढ़कर 0.64 प्रतिशत हो गई, टाटा कॉफी लिमिटेड में यह 0.71 प्रतिशत से बढ़कर 1.78 प्रतिशत हो गई, हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड में यह 0.67 प्रतिशत बढ़कर 0.31 प्रतिशत हो गई और मैंगलोर में आंकड़ों से पता चलता है कि रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड में यह 0.77 प्रतिशत से बढ़कर 1.6 प्रतिशत हो गया.

इसके अलावा, कुछ अन्य राज्य के स्वामित्व वाली संस्थाएं जैसे- इंडिया बैंक, राष्ट्रीय केमिकल एंड फर्टिलाइजर्स लिमिटेड, आदि हैं जहां एफपीआई की हिस्सेदारी बढ़ी है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि होल्डिंग में बढ़ोतरी वैल्यू शेयरों में इंटरेस्ट के शिफ्ट होने की वजह से हुई है.

भारतीय इक्विटी में विदेशी निवेशकों की आमद 28 जुलाई से अब तक 21,000 करोड़ रुपये से अधिक है. लगभग 9 महीने तक इक्विटी में बिकवाली करने के बाद विदेशी निवेशक जुलाई के अंत से खरीदार बन गए.

विशेषज्ञों का मानना है कि विदेशी निवेशक भारतीय बाजार में लौट आए हैं क्योंकि भारत पसंदीदा गंतव्य है क्योंकि देश में दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच विकास की सबसे अच्छी संभावनाएं हैं. एफपीआई ऑटो, कैपिटल गुड्स, एफएमसीजी और टेलीकॉम में शुद्ध खरीदार बन गए हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!