खास खबर

गोवा के भाजपा विधायक ने काजू फेनी के निर्यात की वकालत की

पणजी, 14 जुलाई गोवा की भाजपा विधायक देविया राणे ने मांग की है कि सरकार को काजू फेनी के निर्यात की अनुमति देनी चाहिए, एक ऐसा कदम जो खेती को बढ़ावा दे सकता है और काजू सेब को उपयोग में ला सकता है. उत्तरी गोवा के पोरीम विधानसभा क्षेत्र से विधायक देविया राणे ने बुधवार को विधानसभा सत्र में कहा कि विदेशों में इस उत्पाद की मांग है.

तटीय राज्य के स्थानीय निवासियों द्वारा आमतौर पर और सामाजिक रूप से सेवन किए जाने वाले पेय फेनी को 2016 में गोवा सरकार द्वारा राज्य विरासत पेय के रूप में अधिसूचित किया गया था.

काजू फेनी भौगोलिक संकेत टैग प्राप्त करने वाली देश की पहली स्वदेशी शराब भी है. इसका उत्पादन 2009 में शराब के स्थानीय निर्माताओं ने शुरू किया था.

उन्होंने कहा, “गोअन फेनी को जीआई टैग किया गया है, लेकिन हम इसे अपने राज्य के बाहर नहीं बेच सकते हैं. इसकी कोई अनुमति नहीं है. इसे राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में नहीं बेचा जा सकता है.”

उन्होंने आगे कहा कि हालांकि हमारी नकदी फसल काजू है, लेकिन काजू सेब बर्बाद हो जाते हैं. राणे ने कहा, “लगभग 80 प्रतिशत काजू सेब बाहर फेंक दिए जाते हैं, क्योंकि केवल काजू का उपयोग किया जाता है.”

उन्होंने कहा, “अगर हमें इसे अन्य राज्यों और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी बेचने की अनुमति मिलती है, क्योंकि इसकी व्यापक गुंजाइश और मांग है, तो इससे उत्पादन बढ़ाने में मदद मिलेगी और इस तरह नई भट्टियां आएंगी. इससे अंतत: काजू किसानों को मदद मिलेगी.”

राणे ने कहा, “हाल ही में मैं विदेश में था और जब वहां के लोगों को पता चला कि मैं गोवा से हूं .. उन्होंने कहा ‘आप बहुत भाग्यशाली हैं, आपके पास समुद्र तट हैं और आपके पास फेनी है’, लेकिन उन्होंने यह भी शोक किया कि वे इसे अपने देश में नहीं पाते हैं. उन्होंने मुझसे पूछा ‘आपका देश इसका निर्यात क्यों नहीं करता’.

उन्होंने कहा, “अगर इसे मोपा हवाईअड्डे पर शुल्क मुक्त दुकानों पर उपलब्ध कराया जाता है, और अगर हम इसे अन्य राज्यों में राष्ट्रीय स्तर पर बेच सकते हैं, तो काजू की खेती करने वालों को फायदा होगा.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button