CRIMENationalदिल्ली

तिहाड़ से बाहर आए बदमाश के स्वागत में हुड़दंग, 83 गिरफ्तार

नई दिल्ली. तिहाड़ जेल से जमानत पर छूटने के बाद एक बदमाश के स्वागत में बदमाशों का काफिला पहुंच गया. बदमाशों की इस परेड के हुड़दंग को लेकर पुलिस ने सख्ती बरतते हुए 83 लोगों को गिरफ्तार किया है.

दरअसल, जेल से जमानत पर छूटने पर बदमाश आबिद अहमद के स्वागत में पहुंचे बदमाशों ने अपने सरगना को दिल्ली का सबसे बड़ा गैंगस्टर बनाने के लिए परेड निकाली. जेल से छूटा बदमाश लग्जरी गाड़ी की सनरूफ से बाहर खड़ा होकर समर्थकों का अभिवादन स्वीकार कर रहा था. बदमाशों की परेड जब दिल्ली कैंट पहुंची, तो पुलिस ने उन्हें रोक लिया. पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 83 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार लोगों में 33 पर गंभीर मामले दर्ज हैं, जबकि एक नाबालिग को हिरासत में लिया. पुलिस ने 19 गाड़ियों और दो बाइक को जब्त किया है. पुलिस सभी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज रही है.

रंगदारी और हत्या का प्रयास में था बंद

दिल्ली पुलिस के मुताबिक आरोपी 37 वर्षीय आबिद अहमद तुगलकाबाद एक्सटेंशन इलाके में रहता है. वह गोविंदपुरी थाने का घोषित अपराधी है. उस पर 14 से ज्यादा मामले दर्ज है.

वसंतकुंज नॉर्थ थाने में दर्ज हत्या का प्रयास और रंगदारी के मामले में पुलिस ने आबिद को गिरफ्तार किया था, जिसके बाद उसे जेल भेजा गया था. 16 जून को उसे जमानत मिली थी, जिसके बाद तिहाड़ जेल से बाहर आया था. उसके परिजनों ने आबिद के बाहर आने की सूचना उसके गुर्गों को दी थी. जिसके बाद गुर्गों ने परेड निकालने की तैयारी की.

24 किलोमीटर से ज्यादा की परेड निकालने की थी तैयारी

सूत्रों ने बताया कि आरोपी आबिद का 16 जून की शाम से ही तिहाड़ के बाहर इंतजार कर रहे थे. देर शाम आबिद जब जेल से बाहर आया तो ढोल नगाड़ों के साथ उसका स्वागत किया गया. उसे लेने के लिए आए लोगों ने उन्हें हार पहनाए और गाड़ी में बैठाकर आजादी परेड शुरू की.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि तिहाड़ जेल से गोविंदपुरी स्थित आबिद के घर तक यह परेड निकालने वाले थे. तिहाड़ जेल से गोविंदपुरी इलाका करीब 24.5 किलोमीटर दूर पड़ता है. ऐसे में बदमाश दिल्ली पुलिस को खुली चुनौती दे रहे थे.

बैरिकेड पर रोके गए सड़क पर हंगामा कर रहे बदमाशों की सूचना मिलने के बाद पुलिस सक्रिय हुई. दक्षिण-पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त मनोज सी के नेतृत्व में दिल्ली कैंट थाना पुलिस ने बैरिकेड लगाए. जब बदमाशों का काफिला वहां पहुंचा, तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया. पुलिस ने मौके पर पहुंचे 84 बदमाशों को दबोच लिया. जिसमें ने सभी के बयान लिए और गाड़ियों के दस्तावेजों की जांच के बाद 83 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. प्राथमिक जांच में सामने आया कि गिरफ्तार किए 83 लोग में से 33 लोग ऐसे हैं, जिन पर आईपीसी की गंभीर धाराओं में केस दर्ज हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button