छत्तीसगढ़

विद्या भैय्या ने कार्यकर्ताओं की क्या पुछपरख होती है, सीखा गए: विकास उपाध्याय

रायपुर (छत्तीसगढ़)। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं छत्तीसगढ़ के शान विद्या भैय्या के नवमीं पुण्यतिथि पर आज विधायक विकास उपाध्याय के निवास पर उनकी छायाचित्र पर पुष्प अर्पित कर कांग्रेस के नेताओं ने भावविहिन श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर विधायक विकास उपाध्याय ने हिमांचल प्रदेश से भेजे अपने संदेश में कहा है कि विद्याचरण शुक्ल सवर्ण वर्ग के शान थे और उन्होंने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में जात-पात की राजनीति नहीं की। कार्यकर्ताओं की क्या पुछपरख होती है वर्तमान समय के नेताओं को सीखा गए। उन्होंने कहा कि विद्या भैय्या का जो स्थान रिक्त हुआ है उसकी भरपाई छत्तीसगढ़ में अब कभी नहीं हो सकती।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं जननेता विद्याचरण शुक्ल की आज नवमीं पुण्यतिथि है, आज ही के दिन आतंकवाद के पर्याय नक्सलियों ने उन्हें छलनी कर दी थी और सत्रह दिनों तक जिन्दगी और मौत के बीच जूझने के बाद आज के दिन वे हम सबको छोड़ कर चले गए थे। विद्याचरण शुक्ल एक वो नाम है जिनके समक्ष और किसी व्यक्ति की परछाई भी धीमी पड़ जाती है। सवर्ण वर्ग के वो शान थे, ऐसा व्यक्तित्व कि उनके उपस्थिति मात्र से ही एहसास होता था कि भैय्या यदि मौजूद हैं तो सारा जहान उनके साथ है। उन्होंने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में जात-पात की राजनीति कभी नहीं की। निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा में उनके मदद के हाथ बढ़े। राजनीति के शिखर पर होने के बावजूद उन्हें एक-एक कार्यकर्ताओं की चिंता रहती थी। उनके जीवित रहते तक अपने जीवनकाल में वे कार्यकर्ताओं को तरजीही देने कभी कमी नहीं की।

आज उनके निधन को नौ वर्ष पूर्ण हो चुके हैं, बावजूद कांग्रेस परिवार के बीच यह एहसास दिलाता है कि वे आज भी जीवित हैं। विधायक विकास उपाध्याय की अनुपस्थिति में उनके निवास पर आज कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके छायाचित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की। श्रद्धांजलि सभा में पश्चिम विधानसभा के प्रबुद्धजन एवं गणमान्य नागरिकों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कर विद्या भैय्या को स्मरण किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button