National

तमिलनाडु में छात्रा की खुदकुशी के विरोध में भड़की जोरदार हिंसा, फूंक दी गईं बसें

तमिलनाडु. कल्लाकुरिची (Kallakurichi) में 12वीं कक्षा की एक लड़की संदिग्ध हालत में मौत हो गई. बच्ची के परिजन आरोप लगा रहे हैं कि उसकी हत्या कर दी गई है. मामले की जांच के लिए प्रदर्शन कर रहे लोगों ने स्कूल की बसों में तोड़फोड़ की और स्कूल में घुसने की कोशिश की. गुस्साए लोगों ने कई बसों में आग भी लगा दी है. घटना की जानकारी मिलने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन (MK STalin) ने तमिलनाडु के डीजीपी से बात की है. उन्होंने हिंसा पर चिंता जताते हुए लोगों से अपील की है कि वे शांति बनाए रखें.

घटना की सूचना मिलते ही तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन सक्रिय हो गए हैं. उन्होंने कहा है, ‘हिंसा मुझे परेशान करती है. स्कूली बच्ची की मौत के मामले में पुलिस की जांच पूरी होते ही दोषी को सजा दी जाएगी. मैंने डीजीपी और गृह सचिव से बात करके उन्हें कल्लाकुरिची जाने को कहा है. मैं लोगों से अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें.’

इससे पहले, गुस्साए लोग स्कूल में घुस गए और स्कूल की संपत्ति में जमकर तोड़फोड़ की गई. कई बसों में आग भी लगा दी गई जिसकी वजह से देखते ही देखते कई बसें खाक हो गईं.

दोबारा पोस्टमॉर्टम करवाना चाहता है परिवार

इस मामले में तमिलनाडु के डीजीपी सी स्यालेंद्र बाबू ने कहा, ‘बच्ची की मौत प्राकृतिक कारणों से हुई है. हमने केस दर्ज कर लिया है. बच्ची के परिजन दोबारा पोस्टमॉर्टम की मांग को लेकर हाई कोर्ट गए हैं. कुछ लोगों के ग्रुप ने स्कूल पर प्रदर्शन किया. हमने इंतजाम भी किया था लेकिन वहां भीड़ बढ़ गई. इन लोगों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने के बजया तोड़फोड़ शुरू कर दी. इस वजह से हमें लाठीचार्ज करना पड़ा.’

डीजीपी ने आगे बताया कि घटनास्थल पर 500 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं. हम उन सभी लोगों को गिरफ्तार करना चाहते हैं जिन्होंने स्कूल पर हमला किया. किसी को छोड़ा नहीं जाएगा, हमारे पास वीडियो हैं.

कल्लाकुरिची में आखिर हुआ क्या?

दरअसल, कडलोर जिले की रहने वाली लड़की कल्लाकुरिची जिले के एक स्कूल में 12वीं कक्षा में पढ़ती थी. बुधवार को इस लड़की का शव हॉस्टल के कमरे में पाया गया था. पोस्टमॉर्टम में हैमरेज और सदमे से मौत की बात सामने आई तो परिजन ने शव लेने से इनकार कर दिया. परिजन का कहना है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में छेड़छाड़ की गई है. पिछले कुछ दिनों से इसी मामले में लड़की के परिजन, रिश्तेदार और कुछ स्थानीय प्रदर्शन कर रहे हैं.

रविवार को यह मामला काफी गंभीर हो गया और गुस्साए लोगों ने पुलिस बैरिकेड को पार करते हुए स्कल पर धावा बोल दिया. गुस्साए लोगों ने स्कूल के अंदर घुसकर बसों में आग लगा दी. पुलिस ने पहले तो लोगों को रोकने की कोशिश की लेकिन स्थिति बिगड़ते देख पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. पुलिस का कहना है कि चारों ओर से पत्थरबाजी हो रही थी इसलिए ऐसा कदम उठाना पड़ा. गुस्साई भीड़ ने एक पुलिस बस को भी आग के हवाले कर दिया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!