अग्निपथ योजना युवाओं का अपमान : राहुल

नई दिल्ली. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सेना में भर्ती की अल्पकालिक अग्निपथ योजना को सेना और देश की रक्षा का सपना देखने वाले युवाओं का अपमान करार देते हुए मंगलवार को कहा कि केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनने के साथ ही इस योजना को तत्काल निरस्त कर पुरानी भर्ती प्रक्रिया बहाल की जाएगी.

कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में भी इस योजना को खत्म करने का वादा किया है. राहुल गांधी ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा कि अग्निपथ योजना भारतीय सेना और देश की रक्षा करने का सपना देखने वाले बहादुर युवाओं का अपमान है. उन्होंने दावा किया कि यह भारतीय सेना की नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यालय में बनी योजना है जिसे सेना पर थोप दिया गया है.

 

कांग्रेस नेता ने कहा कि शहीदों के साथ दो तरह का व्यवहार नहीं किया जा सकता, हर व्यक्ति जो देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देता है उसे शहीद का दर्जा मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि विपक्षी गठबंधन इंडिया की सरकार बनते ही इस योजना को रद्द कर पुरानी स्थायी भर्ती प्रक्रिया फिर से लागू करेंगे.

केंद्र सरकार अमीरों की मददगार

राहुल गांधी ने मंगलवार को वायनाड जिले के कोडियाथुर में रोड शो किया. इस दौरान केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए उसपर देश के चुनिंदा अमीर उद्योगपतियों की मदद करने का आरोप लगाया. उन्होंने चुनावी बॉन्ड को जबरन वसूली का एक रूप बताते हुए दावा किया कि इस योजना के तहत धन वसूली के लिए सीबीआई, ईडी और आयकर विभाग जैसी केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल किया गया.

 

राहुल ने रोड शो में आए लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हर छोटे शहर या गांव में कुछ लोग होते हैं जो सड़कों पर शारीरिक नुकसान पहुंचाने की धमकी देकर पैसे वसूलते हैं. मलयालम में आप इस जबरन वसूली को कोल्ला आदिक्कल कहते हैं, लेकिन भाजपा इसे चुनावी बॉन्ड कहती हैं. राहुल ने कहा कि चुनावी बॉन्ड के स्तर पर धमकियां कहीं अधिक परिष्कृत हैं. ईडी, सीबीआई और आयकर के लोग आएंगे, पूछताछ करेंगे और इसके अंत में वे कहेंगे कि आप इसे (उनका व्यवसाय) अडानी को क्यों नहीं दे देते.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button