खास खबर

हिमाचल की हिमालयी ऊंचाइयों पर उगने वाली रोग मुक्त मटर की पूरे भारत में है मांग

शिमला, 24 जुलाई  कृषि विशेषज्ञों का कहना है हिमाचल प्रदेश की हिमालयी चोटियों पर प्राकृतिक परिस्थितियों में उगाई जाने वाली उच्च किस्म के हरे मटर की पैदावार में इस मौसम में 30-35 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है, क्योंकि सर्दियों के दौरान बारिश कम हुई.

हालांकि किसानों को कोई शिकायत नहीं है, उन्हें पड़ोसी राज्यों के प्रमुख बाजारों में 70 से 80 रुपये प्रति किलो के पारिश्रमिक मूल्य मिल रहे हैं.

फसल में गिरावट मुख्य रूप से चरम सर्दियों के दौरान अपर्याप्त बर्फबारी के कारण होती है, जिसके कारण बर्फ से ढकी सिंचाई प्रणाली जिसे ‘कुल’ के रूप में जाना जाता है, में कम पानी होता है – ग्लेशियर से खेतों तक पानी ले जाने के लिए चैनल बनाना पड़ता है.

भारत और तिब्बत की सीमा पर स्थित स्पीति घाटी के दो दर्जन से अधिक गांवों में मटर की कटाई शुरू हो गई है और अगस्त के मध्य तक गति पकड़ लेगी.

हिमाचली मटर की मांग चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र में अधिक है. शिमला के बाहरी इलाके में ढल्ली शहर, सब्जी व्यापार का एक प्रमुख केंद्र है.

ढल्ली बाजार के थोक व्यापारी नाहर सिंह चौधरी ने आईएएनएस को बताया, “स्पीति की मटर की काफी मांग है और वे सीधे दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र के बाजारों में खेतों से जा रहे हैं.”

उन्होंने कहा कि शनिवार को किन्नौर के बाजारों में मटर का थोक भाव असामान्य रूप से 90 रुपये प्रति किलोग्राम था, जहां से वे सीधे गुजरात और महाराष्ट्र जाते हैं.

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि फसल में गिरावट का मुख्य कारण सर्दियों में बर्फ की कमी है. वर्षा छाया क्षेत्र होने के कारण स्पीति में नगण्य वर्षा होती है.

उनका कहना है कि गंभीर जल संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित गांव स्पीति घाटी के ऊपरी हिस्से में हैं, जहां खेतों की सिंचाई में मदद करने वाले नाले और तालाब तेजी से सूख गए हैं.

एक विशेषज्ञ ने कहा, “जून और जुलाई में मटर की फसल को विकास के लिए नमी की जरूरत होती है. फसल के परिपक्व होने के मौसम में पानी की कमी से न केवल इसकी गुणवत्ता प्रभावित होती है, बल्कि मटर का खराब विकास भी होता है.”

स्थानीय लोगों का कहना है कि फरवरी की शुरुआत में बर्फबारी की खत्म हो गई थी. उसके बाद पारा में असामान्य वृद्धि के कारण बर्फ का आवरण तेजी से पिघल रहा है और मिट्टी की नमी कम हो रही है.

रंगरिक के निवासी छेतूप दोरजे ने आईएएनएस को बताया कि फरवरी के बाद अनिश्चित हिमपात हुआ था. आमतौर पर इस क्षेत्र में अप्रैल तक बर्फबारी होती है. उसके बाद क्षेत्र में दो-तीन बार हल्की गर्मी की बारिश होती है.

53 वर्षीय किसान ने कहा, “इस बार सर्दी और गर्मी दोनों में कम वर्षा हुई. अप्रैल में बुवाई और अब शुरू होने वाली कटाई के बीच लगभग सूखे जैसी स्थिति है.”

रंगरिक स्पीति के मुख्यालय काजा से आठ किलोमीटर और राज्य की राजधानी शिमला से करीब 320 किलोमीटर दूर है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button