छत्तीसगढ़

स्कूलों में नवीन शिक्षा सत्र 16 जून से

कोई भी बच्चा शाला त्यागी और अप्रवेशी न रहे: स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. टेकाम

स्कूल शिक्षा मंत्री ने मंत्रियों, संसदीय सचिव, सांसद, विधायक, नगरीय निकाय और पंचायत प्रतिनिधियों को लिखा पत्र

जनप्रतिनिधि शामिल हों शाला प्रवेश उत्सव में

रायपुर. स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए नवीन शिक्षा सत्र 16 जून से प्रारंभ हो रहा है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने इस संबंध में सभी मंत्रियों, संसदीय सचिव, सांसद, विधायक, नगरीय निकाय और पंचायत प्रतिनिधियों को पत्र लिख यह अपेक्षा की है कि कोई भी बच्चा शाला त्यागी और अप्रवेशी न रहे। इस संबंध में सभी जनप्रतिनिधि स्कूलों में नियमित उपस्थिति के लिए विशेष प्रोत्साहन एवं मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। उन्होंने पत्र में लिखा है कि हम सब मिलकर इस सत्र से स्कूली शिक्षा में अपेक्षा अनुरूप परिवर्तन लाने में सफल होंगे।

मंत्री डॉ. टेकाम ने सभी जनप्रतिनिधियों से कहा है कि प्रवेश उत्सव में अवश्य सहभागी बनें और अपने-अपने क्षेत्र की शालाओं में प्रवेशोत्सव को यादगार रूप में मनाते हुए अपनी सहभागिता देकर पालकों को शासकीय शालाओं में बेहतर और गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्रदाय करने के लिए आश्वस्त करें। हमारे शिक्षकों ने मेहनत से शैक्षणिक सामग्री तैयार की है जो उपयोगी सिद्ध होगी।

मंत्री डॉ. टेकाम ने अपने पत्र में कहा है कि ये सभी स्कूल हम सभी के हैं और हम सबको मिलकर ही इन स्कूलों को चलाना है। इस वर्ष हम उम्मीद करते हैं कि हमारे राज्य में अधिक से अधिक पालक अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में भेजें और प्रवेश दिलवाएं। इसके लिए हम सब को अपने-अपने क्षेत्रों में संचालित शालाओं पर लगातार नजर रखते हुए उसमें पढ़ाई की गुणवत्ता में सुधार हेतु आवश्यक प्रयास करना है। सभी को मालूम है कि विगत वर्षाे में कोरोना के कारण बच्चों की पढ़ाई बहुत प्रभावित हुई है। इस वर्ष हम समय पर स्कूल खोल पा रहे है और आशा करते है कि पूर्व की भांति पूरे जोर-शोर से स्कूल का संचालन होगा और हमारे बच्चे पढ़ने-लिखने-सीखने की दक्षता प्राप्त कर लेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button