देश छोड़ भागे गैंगस्टरों की संपत्तियां जब्त होंगी                 

फरार गैंगस्टर और आतंकियों द्वारा काली कमाई से अर्जित की गई चल-अचल संपत्ति को जब्त करने की तैयारी चल रही है. इसके लिए सुरक्षा एजेंसियां ऐसे फरार कुख्यात गैंगस्टर और आतंकियों की सूची तैयार कर इनकी काली कमाई का हिसाब तैयार करने में जुटी है.

खासबात यह है कि एजेंसियों के राडार पर दिल्ली-एनसीआर से लेकर पंजाब तक अपना नेटवर्क बना चुके करीब 100 से ज्यादा गैंगस्टर हैं. जांच एजेंसियों के निशाने पर खासतौर से दिल्ली-एनसीआर के 25 गैंगस्टर और आतंकी हैं. इसके लिए दिल्ली-एनसीआर में संगठित अपराध की तर्ज पर जबरन उगाही से लेकर हथियारों की तस्करी करने और नए गुर्गे बनाने वालों पर पुलिस की पैनी नजर है.

ऐसे बदमाशों पर महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट (मकोका) भी लगाने की तैयारी कर रही है. इनकी सूची तैयार कर संपत्ति का ब्योरा जुटाने के लिए बकायदा पुलिस अधिकारियों की एक टीम का गठन किया गया है. एनसीआर में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए यूपी पुलिस की तरह बदमाशों की संपत्ति को जब्त करने की यह रणनीति हाल ही में बनाई गई है. इसके तहत जांच एजेंसियां प्लान तैयार करने में जुटी हैं कि कैसे बदमाशों की संपत्ति का पता लगाया जाए.

पंजाब के 57 आरोपियों का ब्योरा मांगा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पंजाब के 57 गैंगस्टरों और आतंकियों की चल-अचल संपत्ति का ब्योरा मांगा है. इसके बाद वहां के जिला प्रशासन ने इसे खंगालना शुरू कर दिया है. एनआईए मुख्यत भारत से बाहर रहकर भारत के खिलाफ साजिश रचने वाले आतंकियों से निपटने में जुटी है.

देश के 28 बड़े अपराधियों पर कार्रवाई की तैयारी

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने विदेश से ऑपरेट करने वाले देश के गैंगस्टरों की एक सूची तैयार की है, जिन्हें विदेशी एजेंसियों के साथ मिलकर दबोचने की तैयारी की जा रही है. इस सूची में एनसीआर के ऐसे पांच गैंगस्टर सहित देशभर के कुल 28 गैंगस्टर के नाम शामिल हैं. इसके लिए चार-पांच बार की हुई इन बैठकों में एनआईए, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल, गृह मंत्रालय और आईबी के सीनियर अधिकारी मौजूद थे.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button