छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेलों की धूम

छत्तीसगढ़ के पारम्परिक खेल गतिविधियों को ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में बढ़ावा देने तथा प्रतिभागियों को मंच देने छत्तीसगढ़िया ओलंपिक खेलों की शुरूआत की गई है. इस समय राज्य के कोने-कोने में छत्तीसगढ़ ओलंपिक खेलों की धूम है. छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेलों कबड्डी खो-खो, फुगड़ी, पिट्ठुल, बिल्स, गेड़ी दौड़, भौंरा, रस्साकशी, बांटी, लंबी-कूद, ऊंची कूद, लंगड़ी दौड़ इत्यादि खेलों की प्रतियोगिताओं में गांव और शहरों के बच्चें, महिलाएं और वरिष्ठ नागरिक भी दिलचस्पी ले रहे है. इसी कड़ी में अम्बिकापुर नगर के पीजी कॉलेज ग्राउंड में आयोजित राजीव युवा क्लब स्तरीय छत्तीसगढ़िया ओलंपिक में बच्चों, युवा और महिलाओं में पारंपरिक खेलों के प्रति भारी उत्साह देखा गया. खेलों के शुभारंभ के अवसर पर जिले के कलेक्टर कुंदन कुमार ने कहा कि छत्तीसगढ़ की अपनी परम्परा और पहचान है. यहां की संस्कृति के साथ खेले जाने वाले खेल बहुत महत्व रखते हैं. यह भाईचारे की भावना को विकसित करने के साथ शारीरिक विकास में भी योगदान देता है. गांव-गांव में इस तरह के आयोजन होने से एक बार फिर इन खेलों की पहचान बढ़ेगी और आने वाली पीढ़ी इसे जान पायेंगे. इसी तरह से जिले के ग्राम गोरता में राजीव युवा मितान क्लब स्तर पर छत्तीसगढ़िया ओलंपिक का आयोजन किया गया. प्रत्येक खेल के लिए विजयी खिलाड़ियों को खेल के अनुसार ट्राफी एवं मेडल प्रदान किया गया. इस अवसर पर जनपद सदस्य प्रमिला राजवाड़े, ग्राम पंचायत गोरता के सरपंच सहोदरी उईके, उप-सरपंच मुकेश सिंह, रणविजय सिंहदेव, सचिव दीनूदास सहित राजीव युवा मितान क्लब के सदस्य व ग्रामवासी मौजूद थे.

छत्तीसगढ़ शासन के निर्देशानुसार पारंपरिक खेला काे बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़िया ओलंपिक प्रदेश भर में कराया जा रहा है. इसमें राजीव युवा मितान क्लब स्तरीय खेल 6 से 11 अक्टूबर तक हैं. इसके बाद फिर जोन स्तरीय, विकासखंड स्तरीय, जिला स्तरीय और अंत में राज्य स्तरीय ओलंपिक किया जाना है. इसमें छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेल बिल्लस, फुगड़ी, रस्साकसी, भंवरा, गिल्ली डंडा, खो-खो, कबड्डी, दौड़ शामिल हैं. खेल में गांव के बच्चे, महिला, पुरुष सभी उत्साह के साथ शामिल हाे रहे हैं. पारंपरिक खेल का आनंद उठा रहे हैं. धमतरी विधानसभा के ग्राम गुजरा में ग्राम पंचायत और राजीव युवा मितान क्लब ने खेल स्पर्धाएं कराईं.

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि क्षेत्र के जिला पंचायत सभापति गोविंद साहू शामिल हुए. उन्होंने कहा भूपेश बघेल की सरकार हमारे छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेल को पुनः लाेकप्रिय करने का प्रयास कर रही है. इससे गांव के बच्चों को हमारे पारंपरिक खेल का जानने, समझने और खेलने का अवसर प्राप्त हो रहा है. कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिला कांग्रेस के महामंत्री अमरदीप साहू ने कहा छत्तीसगढ़िया ओलंपिक से छत्तीसगढ़ के लोगों को हमारे पारंपरिक खेल से जुड़ने का अच्छा अवसर प्राप्त हो रहा है.

Related Articles

Back to top button