छत्तीसगढ़बड़ी खबरें

साक्षी साहेब की महिला सशक्तीकरण की कहानी

रायपुर. बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक, ‘धर्मवीर मुक्कमपोस्ट ठाणे-2’ 9 अगस्त को क्रांति दिवस के अवसर पर रिलीज होने के लिए तैयार है. टीजर में साहेब के हिंदुत्व के दृष्टिकोण की झलक दिखाई गई है, जो एक स्थायी प्रभाव छोड़ने का वादा करता है.

टीजर के एक असाधारण क्षण में फिल्म की भावनात्मक गहराई को उजागर करते हुए संवाद दिखाया गया है, ‘अगर घर की महिला दुखी है, तो उसके सबसे बुरे दिन निश्चित हैं.’ टीजर में एक मार्मिक दृश्य दिखाया गया है जहां एक मुस्लिम महिला दीघे साहब की कलाई पर राखी बांधने आती है. साहेब उससे अपना घूंघट हटाने के लिए कहते हैं, जिससे उसका प्रताड़ित चेहरा सामने आ जाता है, जिससे वह क्रांधित हो जाते हैं. फिर वह पूरे महाराष्ट्र से बहनों के साथ निकल पड़ते हैं जो उसकी कलाई पर राखी बांधने आई थीं. वे कहते हैं, ‘जिस भी घर में एक महिला दुखी होती है, उसके बुरे दिन निश्चित होते हैं.’ यह हिंदी और मराठी दोनों भाषाओं में रिलीज होने के लिए तैयार है, जिससे दर्शकों के बीच जबरदस्त उत्साह और उमीदें पैदा हो रही हैं.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button