तीज पर 12 करोड़ के हिंडोले में झूले बांकेबिहारी

वृंदावन. बांके बिहारी लाल आज झूलन कूं पधारे. श्री हरिदास जी गायन करें, सब सखी झोंटा मारे॥ स्वामी हरिदास जी की मल्हार के पदों का शनिवार को हरियाली तीज पर वृंदावन के बांकेबिहारी मंदिर में गायन होने के साथ ब्रज में मानो द्वापर की परंपरा साकार हो उठी. स्वर्ण-रजत के करीब 12 करोड़ के हिंडोले में बांकेबिहारी को झूलते देख भक्त जय-जयकार कर उठे.

ब्रज मर्मज्ञ अनुराग पांडेय बताते हैं कि बांके बिहारी वर्ष में केवल एक बार सोने-चांदी और रत्न जड़ित हिंडोले में झूलते हैं. वृंदावन के सप्त देवालयों में भी आराध्य के लिए अलग-अलग प्रकार के हिंडोले सजाए जाते हैं.

मंदिर के पीछे ठाकुर जी की थकान मिटाने यानी विश्राम के लिए सुख सेज भी सजाई जाती है. पांडेय बताते हैं, 32 फुट चौड़े, 12 फुट ऊंचे स्वर्ण-रजत हिंडोला में विराजे ठा. बांके बिहारी ने अन्य दिनों की अपेक्षा तीज पर भक्तों को चार घंटे अधिक समय तक दर्शन दिए.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button