जहां संकल्प था, मंदिर वहीं बना CM योगी

अयोध्या . मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को कहा कि 500 वर्षों के लबे अंतराल के बाद इस चिरप्रतीक्षित मौके पर अंतर्मन में भावनाएं कुछ ऐसी हैं कि उन्हें व्यक्त करने को शब्द नहीं मिल रहे हैं. मन भावुक है, भाव विभोर है, भाव विह्वल है. आज वह समय आ गया है, जिसकी प्रतीक्षा थी.

उन्होंने कहा कि संतोष है कि मंदिर वहीं बना है, जहां बनाने का संकल्प लिया था. संकल्प और साधना की सिद्धि के लिए, हमारी प्रतीक्षा की समाप्ति के लिए, हमारे संकल्प पूर्णता के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हृदय से आभार और अभिनंदन.

यह भारत के गौरव की पुनर्प्रतिष्ठा

मुख्यमंत्री अयोध्याधाम में श्रीरामलला के बालरूप विग्रह की प्राण-प्रतिष्ठा समारोह पूर्ण होने के बाद बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि यह एक नगर या तीर्थ भर का विकास नहीं है. यह उस विश्वास की विजय है, जिसे ‘सत्यमेव जयते’ के रूप में भारत के राजचिह्न में अंगीकार किया गया है. यह लोकआस्था- जन विश्वास की विजय है. श्रीरामजन्मभूमि मंदिर की स्थापना भारत के सांस्कृतिक पुनर्जागरण का आध्यात्मिक अनुष्ठान है, यह राष्ट्र मंदिर है. निसन्देह! श्रीरामलला विग्रह की प्राण-प्रतिष्ठा राष्ट्रीय गौरव का ऐतिहासिक अवसर है. अवधपुरी में रामलला का विराजना भारत में रामराज्य की स्थापना की उद्घोषणा है.

मंदिर निर्माण के लिए वर्षों तक लड़ाई लड़ी योगी ने कहा कि श्रीरामजन्मभूमि, संभवत विश्व में पहला ऐसा अनूठा प्रकरण रहा होगा, जिसमें किसी राष्ट्र के बहुसंख्यक समाज ने अपने ही देश में अपने आराध्य के जन्मस्थली पर मंदिर निर्माण के लिए इतने वर्षों तक और इतने स्तरों पर लड़ाई लड़ी हो. हर वर्ग ने जाति-पाति, विचार- दर्शन, उपासना पद्धति से ऊपर उठकर राम काज के लिए स्वयं का उत्सर्ग किया.

सोलर सिटी के रूप में विकसित किया जा रहा

मुख्यमंत्री ने कहा, प्रधानमंत्री की प्रेरणा से अयोध्या को सोलर सिटी के रूप में विकसित किया जा रहा. नई अयोध्या पूरे विश्व के सनातन आस्थावानों, संतों, पर्यटकों, शोधार्थियों, जिज्ञासुओं के लिए प्रमुख केंद्र बनने की ओर अग्रसर है. रामराज्य, भेदभाव रहित समरस समाज का द्योतक है.

श्रीराम मंदिर का चांदी का मॉडल भेंट किया

योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत का स्वागत किया. सीएम ने दोनों को श्रीराम मंदिर का चांदी का मॉडल भेंट किया.

‘अब अयोध्या में गोली नहीं चलेगी, रामकीर्तन होगा’

मुख्यमंत्री ने कहा कि निश्चिंत रहिए! रामकृपा से अब कभी कोई भी अयोध्या की परिक्रमा में बाधक नहीं बन पाएगा. अयोध्या की गलियों में गोलियों की गड़गड़ाहट नहीं होगी. कर्फ्यू नहीं लगेगा. अपितु राम नाम संकीर्तन से गुंजायमान होंगी. उन्होंने कहा कि आज इस ऐतिहासिक अवसर पर भारत का हर नगर-हर ग्राम अयोध्याधाम है. हर मार्ग श्रीरामजन्मभूमि की ओर आ रहा है. हर मन में राम नाम है. हर आंख हर्ष के आंसू से भीगी है. हर जिह्वा राम-राम जप रही है. रोम रोम में राम रमे हैं. पूरा राष्ट्र राममय है. ऐसा लगता है हम त्रेतायुग में आ गए.

सुनियोजित तिरस्कार झेला

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस अयोध्या को ‘अवनि की अमरावती’ और ‘धरती का बैकुंठ’ कहा गया, वह सदियों तक अभिशप्त रही. सुनियोजित तिरस्कार झेलती रही. अपनी ही भूमि पर सनातन आस्था पददलित होती रही, चोटिल होती रही. राम का जीवन हमें संयम की शिक्षा देता है और भारतीय समाज ने संयम बनाये रखा, लेकिन हर एक नए दिन के साथ हमारा संकल्प और दृढ़ होता गया. और आज देखिए… पूरी दुनिया अयोध्या के वैभव को निहार रही है.

मुख्यमंत्री ने कहा, जिस तीव्र गति से अयोध्यापुरी का विकास हो रहा है, वह प्रधानमंत्री की दूरदर्शिता के बिना संभव नहीं था. कुछ वर्षों पहले तक यह कल्पना से परे था कि अयोध्या में एयरपोर्ट होगा.

 

 

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button