सरकार ईएमआई की तरह बांट रही नौकरी कांग्रेस

नई दिल्ली . कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र सरकार को घेरा है. पार्टी का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से हर साल दो करोड़ नौकरियों का वादा किया था, पर प्रधानमंत्री ईएमआई की तरह कुछ हजार नियुक्ति पत्र बांट रहे हैं. पार्टी का कहना है कि देश के युवा परेशान हो चुके हैं और वर्ष 2024 में भाजपा को बाहर का रास्ता दिखाएगी.

पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री दो करोड़ नौकरी का वादा कर युवाओं को ईएमआई के रुप में कुछ हजार भर्ती पत्र बांट रहे हैं. उन्होंने कहा कि इनमें उन लोगों के नाम भी शामिल है, जिन्हें पदोन्नति मिली है. खड़गे ने ऐसे कई उदाहरण देते हुए कहा कि अगर प्रधानमंत्री को युवाओं को भविष्य की चिंता होती, तो वह युवाओं के साथ विश्वासघात नहीं करते.

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने रोजगार मेलों को सबसे बड़ा जुमला करार देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री हर वर्ष दो करोड़ नौकरी पैदा करने के अपने वादे को पूरा करने में असफल रहे हैं. उन्होंने कहा कि नौ साल से अधिक समय तक युवाओं की आशाओं और आकांक्षाओं पर पानी फेरने के बाद चुनावी वर्ष में प्रधानमंत्री अब मुश्किल स्थिति में है. अपनी बिगड़ती छवि को बचाने के लिए सबसे बड़े जुमलों में से प्रधानमंत्री रोजगार मेला लेकर आए हैं.

जयराम ने दावा किया कि रोजगार मेलों में जो नौकरियां मिल रही हैं, वह पहले से ही स्वीकृत पदों पर मिल रही हैं, जिन्हें प्रशासनिक या वित्तीय कारणों से वर्षों से भरा नहीं गया था. उन्होंने कहा कि बहुत बड़ी संख्या में पदोन्नति के मामलों में भी प्रधानमंत्री द्वारा नियुक्ति पत्र बांटे जा रहे हैं. इसके साथ इन मेलों के माध्यम से शासन का व्यक्तिगत इस्तेमाल हो रहा है.

उन्होंने कहा कि इन मेलों के माध्यम से शासन का व्यक्तिगत इस्तेमाल हो रहा है. ऐसा दिखाया जा रहा है कि मानो ये नियमित नौकरियां प्रधानमंत्री की ही वजह से मिल रही हैं, जबकि वास्तव में ऐसा नहीं है. कांग्रेस नेता ने कहा कि रोजगार सृजन आर्थिक विकास से होता है, जिसके लिए पर्याप्त निवेश की आवश्यकता होती है.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button