महाराष्ट्र की जगह गुजरात कैसे चला गया सेमीकंडक्टर प्लांट?

वेदांता और फॉक्सकॉन के सेमीकंडक्टर तैयार करने संयुक्त प्रोजेक्ट के महाराष्ट्र की बजाया गुजरात चलाने पर सूबे में सियासत तेज है. विपक्षाी दलों की ओर से इसे लेकर एकनाथ शिंदे सरकार पर निशाना साधा जा रहा है. वहीं शिंदे सरकार ने इसे लेकर उद्धव ठाकरे पर ही हमला बोला है. एकनाथ शिंदे गुट ने कहा कि उद्धव सरकार के कार्यकाल में इस प्रोजेक्ट को लेकर तेजी और उत्साह नहीं दिखाया गया. इसी के चलते यह महाराष्ट्र से छिन गया और गुजरात चला गया. अब शिवसेना के नेता आदित्य ठाकरे ने नया दावा करते हुए शिंदे सरकार पर अटैक किया है.

बता दें कि भारतीय समूह वेदांता और ताइवान की इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी फॉक्सकॉन 1.54 लाख करोड़ रुपये के निवेश के साथ गुजरात में देश का पहला सेमीकंडक्टर संयंत्र स्थापित करेगी. वेदांत-फॉक्सकॉन के संयुक्त उद्यम की डिस्प्ले एफएबी विनिर्माण इकाई, सेमीकंडक्टर असेंबलिंग और टेस्टिंग इकाई राज्य के अहमदाबाद जिले में 1000 एकड़ क्षेत्रफल में स्थापित की  जाएगी. इस संयुक्त उद्यम में दोनों कंपनियों की हिस्सेदारी क्रमश: 60 और 40 प्रतिशत होगी.

शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने कहा कि महा विकास अघाड़ी (एमवीए), जब  सत्ता में थी तब इस परियोजना को बहुत मजबूती से आगे बढ़ाया था. हमारी एमवीए सरकार इसे अंतिम चरण में ले आई थी. मौजूदा सरकार ने संभावित निवेशकों का विश्वास खो दिया है, इसलिए इस तरह की बड़ी परियोजनाएं यहां नहीं आ रही हैं. आदित्य ठाकरे ने कहा कि मेगा प्रोजेक्ट ने 160 सहायक उद्योगों का समर्थन किया होगा और 70,000 से 1 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे. उन्होंने कहा कि पिछली एमवीए सरकार कंपनी के संपर्क में थी और इस साल जनवरी में इसके प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक भी हुई थी.

Related Articles

Back to top button