अंतरराष्ट्रीय टी-20 क्रिकेट मैच में भारत 7 साल बाद वेस्टइंडीज से सीरीज हारा

लॉडरहिल (अमेरिका) . भारतीय टीम का पिछले सात साल से वेस्टइंडीज के खिलाफ चला आ रहा सीरीज जीत का सिलसिला रविवार को थम गया. वेस्टइंडीज ने 2016 में इसी मैदान पर टीम इंडिया को हराकर आखिरी बार सीरीज जीती थी. अब एक बार फिर लॉडरहिल का यह मैदान विंडीज के लिए लकी साबित हुआ.

ब्रेडन किंग (85 नाबाद) और निकोलस पूरन (47) की पारी से वेस्टइंडीज ने 166 रन का लक्ष्य 18 ओवर में दो विकेट पर 171 रन बना हासिल कर लिया. आठ विकेट की जीत के साथ मेजबान टीम ने पांच मैचों की सीरीज पर 3-2 से कब्जा किया. शाई होप (22) ने छक्के के साथ टीम को जीत दिलाई.

चौथे मुकाबले में यशस्वी जायसवाल और शुभमान गिल ने पहले विकेट के लिए रिकॉर्ड 165 रन जोड़े थे. निर्णायक मुकाबले में टीम इंडिया नौ विकेट पर 165 ही बना पाई. अगर टीम ने 15-20 रन और बनाए होते तो परिणाम कुछ ओर होता. सूर्यकुमार 61 और तिलक वर्मा 27 को छोड़कर कोई भी भारतीय बल्लेबाज 20 का आंकड़ा भी नहीं छू पाया. रोमारियो शेफर्ड ने चार विकेट चटकाए.

किंग-पूरन की शतकीय साझेदारी लक्ष्य का पीछा करते हुए विंडीज की शुरुआत अच्छी नहीं रही. टीम ने 12 रन पर ओपनर काइल मेयर्स (10) का विकेट गंवा दिया. अर्शदीप ने यशस्वी के हाथों मेयर्स को कैच करवाकर विंडीज को झटका दिया. इसके बाद किंग और पूरन ने भारतीय गेंदबाजों की खूब धुनाई की. दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 105 रन जोड़े. तिलक ने पूरन को हार्दिक के हाथों कैच करवा इस साझेदारी को तोड़ा.

हुसैन ने दिए झटके टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत निराशाजनक रही. उसने पहले दो ओवर में अपने दोनों सलामी बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिए. बाएं हाथ के स्पिनर अकील हुसैन ने पहले ओवर में यशस्वी (5) और दूसरे ओवर में गिल (9) के विकेट लेकर भारत को दोहरे झटके दिए.

तिलक-सूर्य की साझेदारी तिलक ने छठे ओवर में तीन चौके और एक छक्के से 19 रन जोड़े. रोस्टन चेज ने तिलक को अपनी ही गेंद पर कैच आउट किया. उन्होंने सूर्य के साथ तीसरे विकेट के लिए 49 रन जोड़े.

संजू फिर फ्लॉप सूंज सैमसन एक फिर फ्लॉप रहे और खराब फुटवर्क के कारण फिर सुनहरे मौके को गंवा बैठे. वह नौ गेंद में 13 रन ही बना सके. वह शेफर्ड की गेंद पर पूरन को कैच देकर आउट हुए. कप्तान हार्दिक पांड्या (14) ने सूर्य के साथ पांचवें विकेट के लिए 43 रन जोड़े.

सूर्य ने कोहली और बाबर का रिकॉर्ड बराबर किया

सूर्यकुमार ने अपनी अर्धशतकीय पारी के दौरान विराट कोहली और पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम के शुरुआती पचास पारियों में सर्वाधिक 18-18 बार 50 प्लस का स्कोर करने के रिकॉर्ड की बराबरी की. सूर्य ने तीन शतक जड़ने के साथ ही अब तक 15 अर्धशतकीय पारियां भी खेली हैं. उन्होंने इनमें 172.71 की स्ट्राइक रेट से 1836 रन बनाए हैं. वह भारत की ओर से सर्वाधिक रन बनाने में चौथे नंबर पर हैं. उनसे आगे कोहली (4008 रन), रोहित (3853 रन) और केएल राहुल (2265 रन) ही हैं.

तिलक का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शानदार आगाज

20 वर्षीय तिलक वर्मा का इस सीरीज के जरिये अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आगाज शानदार रहा. खब्बू बल्लेबाज ने पांच मैच में 140.65 की स्ट्राइक रेट और 57.66 की औसत से 173 रन बनाए. इसमें एक अर्धशतक भी शामिल रहा. इस दौरान उन्होंने 15 चौके और सात छक्के जड़े. वह मौजूदा टी-20 सीरीज में भारत की ओर से सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे. उन्होंने निकोलस पूरन के रूप में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पहला विकेट भी लिया. पूरन सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे. पूरन ने 144.62 की स्ट्राइक रेट से 175 रन बनाए. उन्होंने सीरीज में सर्वाधिक 11 छक्के जड़े. इतने ही चौके भी लगाए.

Related Articles

Back to top button