जादवपुर यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट में खामी: धर्मेंद्र प्रधान

कोलकाता. जादवपुर विश्वविद्यालय द्वारा छात्र की मौत पर यूजीसी को दी गई रिपोर्ट संतोषजनक नहीं है. केंद्र रैगिंग के कारण हुई छात्र की मौत पर चिंतित है. यूजीसी इस मामले में कानून के अनुसार सख्त कार्रवाई करेगी. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रविवार को यह बात कही.

विश्वविद्यालय में बीते सप्ताह रैगिंग और यौन उत्पीड़न के बाद स्नातक के छात्र की मौत हो गई थी. इस पर चिंता जताते हुए प्रधान ने कहा, पश्चिम बंगाल की तृणमूल सरकार इस घटना की जिम्मेदारी से बच नहीं सकती.

विश्वविद्यालय ने वैधानिक निकाय के निर्देशानुसार, स्नातक छात्र की कथित रैगिंग और यौन उत्पीड़न के कारण उसकी मृत्यु के बारे में कई प्रश्नों पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग को एक विस्तृत रिपोर्ट भी भेजी. 17 वर्षीय छात्र की 9 अगस्त को लड़कों के मुख्य छात्रावास की दूसरी मंजिल की बालकनी से गिरने के बाद मौत हो गई. उसके परिवार ने आरोप लगाया कि वह रैगिंग का शिकार था.

अब तक 13 को किया गया गिरफ्तार

जादवपुर विश्वविद्यालय के स्नातक प्रथम वर्ष के छात्र की मौत के मामले में अब तक 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. रविवार को शहर की एक कोर्ट ने विश्वविद्यालय के एक पूर्व छात्र को 24 अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेज दिया. वह इस मामले में गिरफ्तार 13वां आरोपी है. इससे पहले पुलिस ने शुक्रवार को विश्वविद्यालय के तीन वर्तमान छात्रों को गिरफ्तार किया था. जेयू के नौ पूर्व और वर्तमान छात्रों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. सभी पुलिस हिरासत में हैं.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button