कांग्रेस ही जातीय गणना का काम कराएगी राहुल

बूंदी/दौसा . कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर जातीय गणना को लेकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कुछ भी हो जाए प्रधानमंत्री मोदी जातीय गणना नहीं करा सकते. यह काम कांग्रेस ही करा सकती है.

राहुल ने कहा, इस देश के लिए सबसे जरूरी काम जातीय गणना है. जिस दिन जातीय गणना हो जाएगी, उस दिन दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. कांग्रेस नेता ने रविवार को राजस्थान के बूंदी और दौसा में अपने प्रत्याशियों के पक्ष में जनसभाएं की. उन्होंने कहा कि यदि भाजपा सत्ता में आई तो वह कांग्रेस की सभी जन कल्याणकारी योजनाएं बंद कर देगी.

राहुल गांधी ने कहा, 90 आईएएस अधिकारियों के साथ देश चलाया जा रहा है, लेकिन उनमें ओबीसी का प्रतिनिधित्व सिर्फ तीन है. उन्होंने कहा कि जिस दिन जाति आधारित गणना हो गई. इस देश के पिछड़ों को यह बात समझ आ गई कि हम 50 प्रतिशत हैं और हमें पांच प्रतिशत की भागीदारी मिल रही है, उस दिन यह देश बदल जाएगा. साथ ही कहा कि जिस दिन आदिवासियों और दलितों को भी यह बात समझ में आ गई कि हमारी आबादी क्रमश 12 और 15 प्रतिशत है, लेकिन हमारी भागीदारी एक और तीन व्यक्ति तक ही सीमित है. उस दिन से देश में परिवर्तन दिखने लगेगा. राहुल ने आरोप लगाया कि आज दो हिंदुस्तान बन गए हैं, जिसमें एक तो अरबपतियों का हिंदुस्तान जहां 14 लाख करोड़ रुपए माफ हो गए. वहीं, दूसरा जहां भाजपा शासित किसी भी राज्य में किसान कर्ज माफ करने की बात करते हैं तो उन्हें लाठी खानी पड़ती है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि केंद्र की नीतियों के कारण एक रुपया पिछड़ों को नहीं जाता, एक रुपया दलितों को नहीं जाता, एक रुपया आदिवासियों को नहीं जाता. हमारी नीति चाहे मनरेगा, चाहे किसान कर्ज माफी हो या भोजन का अधिकार हो… हमारा कम से कम आधा पैसा ओबीसी को जाता है.

पार्टी का ‘वॉर रूम’ देखा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी विधानसभा चुनाव की तैयारियों का जायजा के लिए रविवार को यहां प्रदेश कांग्रेस के ‘वॉर रूम’ पहुंचे. इस मौके पर राजस्थान कांग्रेस प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा भी मौजूद रहे. राहुल ने यहां टीम का हौसला बढ़ाया.

 

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button