जंतर-मंतर पर पहलवान प्रधानमंत्री से बोले – कृपया हमारे ‘मन की बात’ सुनें

नई दिल्ली . कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ जंतर-मंतर पर पहलवानों का धरना बुधवार को भी जारी रहा. पहलवान साक्षी मलिक और विनेश फोगाट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की इच्छा व्यक्त की. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उनका दर्द समझ सकेंगे. वह चाहती हैं कि प्रधानमंत्री उनसे मिलें. शायद हमारी आवाज उन तक नहीं पहुंच रही है.

कॉमनवेल्थ और एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान विनेश फोगाट ने कहा कि प्रधानमंत्री शायद हमसे मिलने के बाद देश की बेटियों का दर्द देख पाएंगे. उधर, धरने के चौथे दिन सुबह उठकर पहलवानों ने व्यायाम किया और उसके बाद वहीं गद्दे बिछाकर कुश्ती का अभ्यास किया. बड़े ओलंपिक पहलवान एकदूसरे को दांव-पेंच के बारे में बताते दिखे.

सत्यपाल मालिक धरना स्थल पर पहुंचे जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक बुधवार को पहलवानों के प्रदर्शन में शामिल हुए. सत्यपाल मलिक ने कहा कि पहलवानों का समर्थन बढ़ाने की जरूरत है. मैं इसे बढ़ाने के लिए व्यक्तिगत रूप से अपनी भूमिका निभाऊंगा, क्योंकि यह लड़ाई सिर्फ उनकी नहीं है, यह हमारे देश की सभी महिलाओं की लड़ाई है. मैं इन पहलवान लड़कियों को धैर्य रखने के लिए कहना चाहता हूं, क्योंकि यह इस लड़ाई में सफल होंगी. वहीं, दिल्ली ग्राम विकास पंचायत के सैकड़ों पदाधिकारी जंतर-मंतर पर पहुंचे. पंचायत के लोगों ने धरनास्थल पर नारेबाजी कर बृजभूषण सिंह के खिलाफ जल्द कार्रवाई करने की आवाज उठाई.

कमेटी की रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग पहलवानों ने फिर से खेल मंत्रालय द्वारा बनाई कमेटी पर सवाल उठाए. विनेश फोगाट ने बताया था कि मंत्रालय और कमेटी से तीन महीने से जवाब मांगने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन न वक्त मिल रहा है और न ही जवाब. नहीं पता बृजभूषण को बचाने के लिए कौन लोग उनका साथ दे रहे हैं. बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और सभी पहलवानों ने कहा कि कमेटी की रिपोर्ट सबमिट हो गई, लेकिन रिपोर्ट में क्या है कमेटी को बताना चाहिए.

दिल्ली पुलिस पर किसका दबाव है प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार को धरने पर बैठे पहलवानों का समर्थन किया. भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर उन्होंने सवाल किया. उन्होंने कहा कि आखिर दिल्ली पुलिस पर किसका दबाव है और क्या सरकार दोषियों को बचाना चाहती है.

पहलवानों ने कहा कि बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी होने पर ही वे धरना स्थल से हटेंगे.

एफआईआर दर्ज करने की सिफारिश

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने दिल्ली पुलिस से मामले में एफआईआर दर्ज करने में विफल रहने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की सिफारिश की है. आयोग को महिला पहलवानों से एक नई शिकायत मिली है, जिसमें उन्होंने दो व्यक्तियों, एक द्रोणाचार्य अवार्डी कोच और हरियाणा कुश्ती संघ के महासचिव पर कुछ पीड़िताओं और परिवारों को कथित रूप से धमकी भरे कॉल करने का आरोप लगाया है. शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि उनकी पहचान दिल्ली पुलिस ने लीक की है.

योगश्वर दत्त ने आरोपों को नकारा

ओलंपिक मेडल विजेता और भाजपा नेता योगेश्वर दत्त ने कहा कि कमेटी ने वीडियोग्राफी के द्वारा सभी खिलाड़ियों के बयान लिए थे. उन्हें सार्वजनिक नहीं किया जा सकता. उसमें कोई कमी की गुंजाइश नहीं रखी गई थी. जांच रिपोर्ट सभी छह सदस्यों को पढ़ने के लिए दी गई थी. कमेटी के सामने उत्पीड़न संबंधित कोई शिकायत नहीं आई, जैसा कि बबीता फोगाट ने आरोप लगाए हैं. बबीता फोगाट इस तरह के बयान क्यों दे रही हैं, इस बारे में वे खुद ही बता सकती हैं.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button