दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व-मैनेजर दिशा सालियान की मौत की जांच के लिए एक विशेष जांच टीम का गठन किया

मुंबई. पुलिस ने बताया कि सालियान (28) ने आठ जून 2020 को एक ऊंची इमारत से कूद कर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी. इसके कुछ ही दिन पहले, सुशांत (34) का शव मुंबई के उपनगर बांद्रा में अपने फ्लैट में फंदे से लटका मिला था. दिशा सालियान के पिता सतीश सालियान ने पुलिस को एक पत्र लिखकर कहा था कि उन्हें अपनी बेटी की मौत में किसी गड़बड़ी का संदेह नहीं है. उन्होंने मुंबई पुलिस की जांच पर भी पूरी तरह से संतोष जताया था.

मुंबई पुलिस ने दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व-मैनेजर दिशा सालियान की मौत की जांच के लिए एक विशेष जांच टीम का गठन किया है. अधिकारी ने कहा, ”मुंबई पुलिस ने दिशा सालियान की मौत के मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया है. मलवानी पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक चिमाजी अधव मामले की जांच करेंगे.” पुलिस उपायुक्त अजय बंसल जांच की निगरानी करेंगे.

एसआईटी के गठन पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि पार्टी दबाव बनाने के इस तरह के हथकंडों के आगे नहीं झुकेगी. भाजपा की आलोचना करते हुए राउत ने कहा कि वे अमेरिकी या रूसी जासूसी एजेंसियों क्रमश: सीआईए और केजीबी को जांच सौंप सकते हैं.

उन्होंने कहा, ”हम दबाव बनाने के इन हथकंडों के आगे नहीं झुकेंगे. एसआईटी गठित करें या जांच सीआईए या केजीबी को सौंप दें. केंद्र और राज्य सरकार राजनीतिक विरोधियों को बदनाम करने की फैक्टरी है.” उन्होंने आरोप लगाया, ”मौजूद शासन का समय विपक्षी नेताओं के खिलाफ एसआईटी गठित करने पर ही बीता है.” सालियान की मौत के बाद राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप देखने को मिला था. उस वक्त विपक्ष में रही भारतीय जनता पार्टी ने पूर्ववर्ती महा विकास आघाड़ी सरकार पर मामले को दबाने का आरोप लगाया था.

पिछले साल राज्य विधानमंडल के शीतकालीन सत्र के दौरान, उप मुख्यमंत्री एवं भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि सालियान की मौत की जांच के लिए एक विशेष जांच टीम गठित की जाएगी. कुछ नेताओं ने सालियान की हत्या किये जाने का आरोप लगाया था और मामले में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे एवं विधायक आदित्य ठाकरे का नाम घसीटने की कोशिश की थी.

भाजपा विधायक प्रवीण दरेकर ने पिछले हफ्ते कहा था कि कई नेता लंबे समय से मांग कर रहे हैं कि मामले में एसआईटी गठित की जाए. यह पूछे जाने पर कि क्या सालियान की मौत की एसआईटी जांच का आदेश दिया गया है, इसपर उद्धव ने संवाददाताओं से कहा कि उन्हें इस तरह के किसी आदेश के बारे में कोई आधिकारिक सूचना नहीं है.

शिवसेना (यूबीटी) नेता ने किसी का नाम लिये बगैर कहा, ”…यदि वे हमारे खिलाफ झूठे आरोप लगाते हैं, तो फिर हम सच को सामने लाएंगे.” शिवसेना (यूबीटी) नेता अंबादास दानवे ने संवाददाताओं से कहा कि पिछले साल भी एसआईटी गठित करने की घोषणा की गई थी और पूर्व में भी सालियान की मौत की जांच की गई है.

महाराष्ट्र विधानपरिषद में विपक्ष के नेता दानवे ने विशेष सीबीआई (केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो) न्यायाधीश बी. एच. लोया की मौत की एसआईटी से जांच कराए जाने की मांग की. दानवे ने नागपुर में विधानभवन परिसर में संवाददाताओं से कहा, ”मैं मांग करता हूं कि न्यायाधीश लोया की मौत की भी एसआईटी जांच कराई जाए. अगर आप दिशा सालियान की मौत की जांच करना चाहते हैं तो कर सकते हैं. राजनीति की जा रही है. सरकार को न्यायाधीश लोया की मौत की भी जांच करानी चाहिए.”

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button