Raipur: श्री अनिरुद्धाचार्य जी महाराज की श्रीमद् भागवत कथा के कार्यक्रम में हैदराबाद के प्रखर हिन्दूवादी विधायक टी. राजा जी भारी बारिश के बावजूद डटे रहे

रायपुर. श्री अनिरुद्धाचार्य जी महाराज की अवधपुरी मैदान गुढ़ियारी में स्व. सत्यनारायण बाजारी (मन्नू भाई) जी की पुण्य स्मृति में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के पंचम् दिवस महाराज द्वारा प्रभु गौरी-गोपाल जी को पुष्प माला अर्पित कर आरती से आरंभ की गई. कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण बोशा-महल हैदराबाद के प्रखर हिन्दूवादी विधायक टी. राजा जी रहे. भारी बारिश के बावजूद लाखों कथा प्रेमी स्थल में डटे रहे. डोम पंडाल के कारण श्रोताओं को तकलीफ नहीं हुई.

विधायक टी. राजा ने अपने चिर-परिचित ओजस्वी उदबोधन में महाराजका स्वागत करते हुए धर्मान्तरण पर प्रहार कर उपस्थितजनों को हिन्दुत्व के प्रति जागरुक किया. उन्होंने प्रदेश सरकार से भी इस विषय पर सख्त कानून बनाने की मांग की. उन्होंने देशव्यापी संगठन खड़ा कर हिन्दू राष्ट्र की दिशा में कार्य करने का मंच से संकल्प लिया.

महाराज ने टी. राजा को स्मृति चिन्ह भेंटकर एवम् श्रीकृष्णनामी केसरिया पटका पहना कर सम्मानित किया.
नंद भवन में उड़ रही धूल… धूल मोहे प्यारी लगे…! इस भजन में हजारों श्रद्धालु झूमते-नाचते रहे. कथा का आरंभ करते हुए महाराजने कहा कि सांसारिक मोह-माया के कारण हम प्रभु से विरक्त होते चले जाते हैं. उन्होंने गधे और खूंटे, भंगेड़ी और नाव की कहानी के माध्यम से समझाया कि कैसे हम भ्रम में जीते हैं. जगत के फेर में बंधन है और जगन्नाथ जी के फेर में मुक्ति है.

महाराज ने बच्चों को संस्कार सिखाने की सीख श्रोताओं को दी. सोना और लोहा, सत्संग और कुसंग की प्रवृत्ति को समझाते हुए संस्कारवान बच्चे तैयार करने को कहा. मम्मी-पापा जैसे उदबोधन की जगह माँ- मैया, बाबूजी-पिताजी जैसे शब्द माता-पिता के लिये उपयोग करने को कहा. दहेज को समाजिक बुराई बताते इससे दूर रहने की सलाह भी दिये. उन्होंने शिक्षा के विषय में चर्चा करते हुए पूछा कि आप शिक्षित हैं यह अच्छी बात है पर इससे आपके परिवार, समाज, देश को क्या मिला? आपने उन्हें क्या दिया? उन्होंने स्वयं अपनी शिक्षा-दीक्षा का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए बताया कि वे किस तरह समाज, देश की सेवा कर रहे हैं. अयोध्याधाम में पांच वर्षीय प्रभु रामलला की स्थापना पर…आ दर्शन दे गोदी पर, तुझको निहार लूं….! सुमधुर संगीतमय भजन सुनाया.
उन्होंने बताया कि कृष्ण माखन चोर हैं परंतु माखन से तात्पर्य चित्त से है. कृष्ण जी चित्त चोर हैं.

प्रभु श्रीराम जी के जीवन का स्मरण करते हुए माता सीता का अग्नि में समाना, माता सीता की जगह माता बेदबती के हरण का वृतांत भी श्रद्धालुओं को सुनाया. कृष्णा बाजारी परिवार द्वारा गौरी-गोपाल जी की 56 भोगों से विशेष आरती की गई.

कार्यक्रम की व्यवस्था में आयोजक समिति के ओमप्रकाश पप्पू मिश्रा, दीपक अग्रवाल, विकास सेठिया, नितिन कुमार झा, अभिषेक अग्रवाल, ओमकार बैस, शैलेष शर्मा, सौरभ मिश्रा, रीतेश राठौर वीरेन्द्र पारख आदि सैकड़ों पदाधिकारी एवम् कार्यकर्तागण सक्रिय रहे.

नितिन कुमार झा
मीडिया प्रभारी
श्रीमद् भागवत कथा आयोजन समिति
हनुमान मंदिर ट्रस्ट समिति
गुढ़ियारी रायपुर

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button