स्कूल शिक्षा मंत्री द्वारा अशासकीय स्कूलों के 156 शिक्षकों का सम्मान

रायपुर. शिक्षक दिवस के अवसर पर स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने आज यहां गुजराती शिक्षण संघ देवेन्द्र नगर में अशासकीय स्कूलों के 156 शिक्षकों को शाल, श्रीफल और प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया. कार्यक्रम का आयोजन फेडरेशन ऑफ ऐजुकेशनल सोसायटीज् और अशासकीय प्राचार्य मंच द्वारा किया गया. कार्यक्रम की अध्यक्षता राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महंत रामसुंदर दास ने की.

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. टेकाम ने सम्मानित होने वाले सभी शिक्षकों का शिक्षक दिवस की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बच्चों के जीवन को संवारने में गुरू की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. स्वामी विवेकानंद के जीवन में उनके गुरू रामकृष्ण परमहंस का विशेष योगदान था. कबीर ने अपने गुरु रामानंद से राम-नाम का महत्व जाना. उन्होंने कहा कि गुरु की भूमिका हमारे जीवन में महत्वपूर्ण होती है. गुरु के प्रति आस्था, सम्मान, विश्वास रखने से सदैव सफलता की प्राप्ति होती है. गुरु न केवल शिक्षा प्राप्त करते हैं, अपितु जीवन के प्रत्येक क्षण संषर्घ करना सिखाते हैं. शिक्षक किसी बच्चे के लिए रास्ता नहीं बनाता, बल्कि उसे रास्ता बनाना सिखाता है.

कार्यक्रम को राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री डॉ. महंत रामसुंदर दास, फेडरेशन के अध्यक्ष अजय तिवारी, कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. सुरेश शुक्ला ने भी सम्बोधित किया. इस अवसर पर फेडरेशन के उपाध्यक्ष अशोक पटेल, महासचिव श्री अरविंद शर्मा, सचिव शरद दुबे, अशासकीय प्राचार्य मंच के अध्यक्ष अशोक दुबे, गुजराती शिक्षण संघ के पदाधिकारी सहित अशासकीय स्कूलों के प्राचार्य एवं शिक्षक उपस्थित थे.

Aamaadmi Patrika

Related Articles

Back to top button