गिरफ्तारी के बाद शाहजहां शेख को अदालत में किया पेश

पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में महिलाओं के यौन उत्पीड़न और जमीन हड़पने के आरोपी तृणमूल कांग्रेस के नेता शाहजहां शेख को 55 दिन बाद गुरुवार सुबह गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद उसे उत्तर 24 परगना जिले की एक अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे दस दिनों की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया. मिनाखान से तड़के गिरफ्तारी के बाद शेख को सुबह 10 बजकर 40 मिनट पर बशीरहाट की अदालत में पेश किया गया. राज्य पुलिस ने शेख को 14 दिन की हिरासत में भेजे जाने का अनुरोध किया था लेकिन अदालत ने 10 दिन की पुलिस हिरासत की मंजूर दी. जिस दौरान शाहजहां शेख को अदालत में पेश करने के लिए ले जाया गया, उस दौरान उसके चेहरे पर अहंकार दिखाई दे रहा था.

अदालत में पेशी के दौरान शाहजहां शेख काफी अकड़ कर चलते हुए दिखाई दिया. उसकी बॉडी लैंग्वेज से उसकी अकड़ साफ देखी जा सकती है. इस दौरान, वहां पत्रकारों ने भी कई सवाल पूछे, लेकिन उसने उंगली के इशारे से जवाब देने से मना कर दिया. शाहजहां की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने बताया कि शेख को उत्तर 24 परगना जिले के संदेशखाली से लगभग 30 किलोमीटर दूर मिनाखान में एक घर से गिरफ्तार किया गया. उन्होंने बताया कि शेख कुछ साथियों के साथ उस घर में छिपा था. गिरफ्तार करने के बाद उसे बशीरहाट अदालत ले जाया गया.

इससे पहले, कलकत्ता हाई कोर्ट के बुधवार को कहा था कि केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई), प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) या पश्चिम बंगाल पुलिस शेख को गिरफ्तार कर सकती है. इसके 24 घंटे के भीतर ही शेख को हिरासत में ले लिया गया. राज्यपाल सी वी आनंद बोस ने शेख की गिरफ्तारी के लिए सोमवार रात राज्य सरकार को 72 घंटे की ”समयसीमा” दी थी. राज्यपाल ने कहा, ” अंधकार के बाद उजाला जरूर होता है. मैं इसका स्वागत करता हूं.” एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि शेख का पता उसके मोबाइल फोन की ”लोकेशन” से चला. उन्होंने कहा, ”शेख समय-समय पर अपना स्थान बदल रहा था. उसके मोबाइल फोन के टावर की ‘लोकेशन’ से उसका पता लगाया गया.”

पुलिस ने कहा कि कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए कोलकाता से लगभग 65 किलोमीटर दूर बशीरहाट अदालत में भारी पुलिस बल तैनाती किया गया. हालात को नियंत्रित करने के लिए संदेशखाली के कुछ हिस्सों में अतिरिक्त बल भी तैनात किया गया है. मुख्य न्यायाधीश टी.एस. शिवगणनम की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने बुधवार को कहा था कि यह देखते हुए कि शेख काफी समय से फरार है ऐसे में पश्चिम बंगाल पुलिस के अलावा केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी गिरफ्तार कर सकती है.

शेख की गिरफ्तारी को बीजेपी ने बताया पूर्व नियोजित

टीएमसी नेता शाहजहां शेख की गिरफ्तारी को विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पूर्व नियोजित करार दिया तथा कहा कि शेख पश्चिम बंगाल पुलिस की ‘सुरक्षित अभिरक्षा’ में था. भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा, ”यह तृणमूल और राज्य पुलिस ही थी जो दोषियों को बचाने में लगी थी. अब उसे एक अच्छी तरह से गढ़ी गई कहानी के हिस्से के रूप में गिरफ्तार किया गया है. भाजपा की प्रदेश इकाई के लगातार आंदोलन के कारण राज्य प्रशासन को उन्हें गिरफ्तार करने के लिए मजबूर होना पड़ा.” कोलकाता से लगभग 100 किलोमीटर दूर, सुंदरबन की सीमा पर स्थित संदेशखाली क्षेत्र के लोग टीएमसी के स्थानीय नेता शाहजहां शेख और उसके समर्थकों के खिलाफ यौन शोषण और जमीन हड़पने के आरोपों को लेकर एक महीने से अधिक समय से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. कथित राशन घोटाले के सिलसिले में शेख के घर पर छापा मारने गई ईडी टीम पर पांच जनवरी को लगभग एक हजार लोगों की भीड़ ने हमला कर दिया था, जिसके बाद से ही वह (शेख) फरार था.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button