शेख हसीना ने बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी पर हमला बोला कहा : पहले पत्नियों की साड़ियां जलाओ

ढाका . बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के दोबारा देश की सत्ता संभालने के बाद से उनके खिलाफ बॉयकॉट इंडिया अभियान चल रहा है. अब इस मुद्दे पर हसीना ने विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) पर हमला बोला है.

साड़ी को हथियार बनाते हुए विपक्षी नेताओं से कहा कि वह अपने अपनी पत्नियों की साड़ियां जलाएं. हसीना ने पूछा कि बीएनपी नेताओं की पत्नियों के पास कितनी साड़ियां हैं और उन्होंने इसे आग क्यों नहीं लगाई.

बांग्लादेशी प्रधानमंत्री ने अपनी पार्टी अवामी लीग की एक बैठक को संबोधित करते हुए निशाना साधा. उन्होंने बेगम खालिदा जिया के नेतृत्व वाली बीएनपी को चुनौती दी कि जब विपक्ष के नेता अपनी पत्नियों की भारतीय साड़ियां अपने पार्टी कार्यालय के सामने जलाएंगे, तभी यह बात साबित होगी कि वे वास्तव में भारतीय उत्पादों का बहिष्कार कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि बीएनपी नेता और उनकी पत्नियां भारत से साड़ियां खरीदकर बांग्लादेश में बेचती थीं. उन्होंने आगे कहा कि जब बीएनपी सत्ता में थी, तो मैंने उनके नेताओं की पत्नियों को भारतीय साड़ियां खरीदने के लिए भारत जाते देखा था. बांग्लादेशी प्रधानमंत्री की यह टिप्पणी विपक्षी बीएनपी के नेता रूहुल रिजवी द्वारा भारतीय उत्पादों के विरोध में अपना कश्मीरी शॉल सड़क पर फेंकने के बाद आई है.

‘भारतीय मसाले का न करें इस्तेमाल’

हसीना ने मसाले को लेकर भी विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि गरम मसाला, प्याज, लहसुन, अदरक सभी मसाले भारत से बांग्लादेश आयात करता है. तो बीएनपी नेताओं के घरों में ये मसाले नहीं देखा जाना चाहिए. उन्हें बिना भारतीय मसालों के खाना खाने की जरूरत है.

क्या है मामला

बांग्लादेश में शेख हसीना के दोबारा चुने जाने के बाद भारत विरोधी भावनाएं ऑनलाइन बढ़ गईं हैं. विपक्षी नेताओं ने हसीना और उनकी अवामी लीग को भारत समर्थक करार देने की कोशिश की है. उन्होंने दावा किया कि भारत ने उन्हें चुनाव जीतने में मदद की. हसीना को साड़ी पसंद है, लिहाजा भारतीय उत्पादों के बहिष्कार की शुरुआत की.

 

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button