भारतीय निर्वाचन आयोग से शरद पवार को झटका

भारतीय निर्वाचन आयोग ने घोषणा की कि अजित पवार गुट ही असली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) है. यह फैसला पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार के लिए झटका है.

आयोग ने महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार को पार्टी के साथ एनसीपी का प्रतीक ‘दीवार घड़ी’ भी आवंटित कर दिया. मुख्य निर्वाचन आयुक्त राजीव कुमार, निर्वाचन आयुक्त अनूप चंद्र पांडेय और अरुण गोयल की पीठ ने कहा, निर्णय में ऐसी याचिका की रखरखाव के निर्धारित परीक्षणों का पालन किया गया, जिसमें पार्टी संविधान के लक्ष्यों और उद्देश्यों का परीक्षण, पार्टी संविधान का परीक्षण, संगठनात्मक और विधायी दोनों बहुमत के परीक्षण शामिल थे.

आयोग ने कहा कि विधायी इकाई में बहुमत के परीक्षण को मामले की इस परिस्थिति में अनुकूल पाया गया, जहां दोनों समूहों को पार्टी संविधान और संगठनात्मक चुनावों के बाहर काम करते पाया गया है. बीते वर्ष जुलाई में पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार के भतीजे अजीत पवार ने पार्टी में बगावत कर कुछ विधायकों के साथ अलग गुट बना लिया था. बाद में वे मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाले सरकार में उपमुख्यमंत्री बन गए. इसके बाद अजित ने निर्वाचन आयोग में याचिका दाखिल कर पार्टी पर दावा किया था.

शरद गुट को बुधवार तक आवेदन करने की छूट

निर्वाचन आयोग ने आगामी राज्यसभा चुनावों के मद्देनजर शरद पवार की अगुवाई वाले गुट को राजनीतिक दल के लिए एक नाम का दावा करने और बुधवार तक तीन प्राथमिकताएं बताने के लिए आवेदन की छूट दी है. आयोग ने कहा, इस बारे में आवेदन करने में विफल रहने पर शरद पवार गुट के विधायकों को निर्दलीय माना जाएगा. इस मामले में आयोग ने 10 दिन में सुनवाई की है.

 

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button