Uttarakhand: जमीन घोटाले मामले में पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के यहाँ ED की छापेमारी

Uttrakhand: हरक सिंह रावत उन 10 विधायकों में से हैं जिन्होंने 2016 में पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत के खिलाफ बगावत की थी और बाद में वे बीजेपी में चले गए थे. लेकिन साल 2022 में हरक सिंह रावत को बीजेपी ने अनुशासनहीनता के कारण पार्टी से निकाल दिया था जिसके बाद साल 2022 में वे कांग्रेस में शामिल हो गए थे. हरक सिंह के साथ उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने भी कांग्रेस का दामन थाम लिया था.

कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत के ऊपर बुधवार ईडी ने बड़ी कार्रवाई की है. जिसमें की उनके दिल्ली, चंडीगढ़ और उत्तराखंड सभी ठिकानों पर ईडी छापा मार रही है. इसके अलावा हरक सिंह रावत के रिश्तदारों के ठिकानों पप भी ईडी रेड मार रही है .

ईडी की कारवाई दो अलग मामलों में चल रही है, जिसमें एक फॉरेस्ट लैंड से जुड़ा हुआ है और दूसरा जमीन घोटाले से जुड़ा है. इस मामले को लेकर साल 2023 अगस्त में विजिलेंस विभाग ने हरक सिंह रावत के खिलाफ कार्रवाई की थी. आपको बता दें कि साल 2022 में हरक सिंह रावत को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते 6 साल के लिए उत्तराखंड कैबिनेट और बीजेपी की सदस्यता से बर्खास्त कर दिया गया था.

Related Articles

Back to top button