व्लादिमीर पुतिन 5वीं बार बने रूस के राष्ट्रपति, मिले 88% वोट

मास्को: रूस में संपन्न हुए चुनाव पर दुनियाभर की प्रतिक्रियाएं सामने आई हैं। पश्चिमी देशों ने चुनावों की आलोचना की है। रूस के साथ युद्ध लड़ रहे यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने रविवार को कहा कि पुतिन हमेशा के लिए शासन करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘चुनाव की कोई वैधता नहीं है और न ही हो सकती है।’

अमेरिका ने चुनाव को लेकर कहा कि ये स्पष्ट रूप से न तो स्वतंत्र और न ही निष्पक्ष थे। अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा, ‘चुनाव स्पष्ट रूप से स्वतंत्र या निष्पक्ष नहीं हैं क्यों पुतिन ने राजनीतिक विरोधियों को कैसे कैद किया और दूसरों को उनके खिलाफ लड़ने से रोका।’

जर्मनी ने भी रूस में चुनाव को स्वतंत्र है और निष्पक्ष मानने से इनकार किया है और कहा कि परिणाम किसी को भी आश्चर्यचकित नहीं करेगा। विदेश मंत्रालय के एक बयान में कहा गया कि पुतिन का शासन सेंसरशिप, दमन और हिंसा पर निर्भर है। यूक्रेन के कब्जे वाले क्षेत्रों में चुनाव अमान्य और अंतरराष्ट्रीय कानून का एक और उल्लंघन है।

पीएम मोदी ने रूस के राष्ट्रपति चुने जाने पर पुतिन को बधाई दी है। पीएम मोदी ने कहा, ‘आगामी वर्षों में भारत और रूस के बीच रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत करने के लिए मिलकर काम करने के लिए तत्पर हैं।’

हालांकि, चीन ने रूसी चुनावों पर पुतिन का समर्थन किया है। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि व्लादिमीर पुतिन की जीत उनके लिए लोगों के समर्थन को प्रदर्शित करती है। उन्होंने कहा कि चीन, रूस के साथ आगे करीबी रणनीतिक साझेदारी को बढ़ाने के लिए तैयार है।

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button