महिला एवं बाल विकास मंत्री पहुंची अंजोरा स्थित वृदावंन गौठान रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क

वृदावंन रसोई में छत्तीसगढ़ी व्यंजन टमाटर चटनी के साथ चिला, गुलगुला भजिया और चाय की चुस्की लेते हुए स्वसहायता समूह की महिलाओं से की बातचीत

गौठान महिलाओं के लिए स्वालंबन होने का सबसे बड़ा साधन – महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेडिय़ा

रायपुर। महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेडिय़ा ने आज राजनांदगांव विकासखंड के ग्राम अंजोरा स्थित वृदावंन गौठान रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क पहुंची। मंत्री श्रीमती अनिला भेडिय़ा और राज्यसभा सदस्य श्रीमती छाया वर्मा ने वृदावंन रसोई में छत्तीसगढ़ी व्यंजन टमाटर चटनी के साथ चिला, गुलगुला भजिया और चाय की चुस्की लेते हुए स्वसहायता समूह की महिलाओं से चर्चा कर उनके कार्यों की जानकारी ली। महिलाओं ने बताया कि वृदावंन गौठान बनने के बाद ढाबा चला रही हंै। यहां अतिथियों के साथ आसपास के नागरिक, स्कूल, कॉलेज के विद्यार्थी सैर करने और गौठान देखने आते हंै। अब तक ढाबा में लगभग 14 हजार 800 रूपए की बिक्री कर चुकी हंै। प्रतिदिन 400-500 रूपए का विक्रय कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह उनके आय का जरिया बन गया है। इस दौरान महिलाओं ने श्रीमती भेडिय़ा को गौठान में उत्पादित चार रंग के हर्बल गुलाल हरा, नीला, गुलाबी, पीला, रंग और मिठाई भेंट की। श्रीमती भेडिय़ा ने वहां कार्य कर रही महिलाओं को श्रम कार्ड वितरण किया। इस दौरान कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा, जिला पंचायत सीईओ लोकेश चंद्राकर उपस्थित थे।
महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेडिय़ा ने गौठान के रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क में स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा किए जा रहे कार्यों का अवलोकन किया और महिलाओं से चर्चा कर कार्य विधि की जानकारी ली। उन्होंने गुलाल उत्पादन, गुलाल पैकिंग, बांस शिल्प कारीगिरी, गोपी चंदन, मशरूम शेड, वर्मी कम्पोस्ट का अवलोकन किया। मंत्री श्री भेडिय़ा गौठान में स्वसहायता समूह की महिलाओं के कार्यों को देखकर प्रभावित हुई। उन्होंने कहा कि गोधन न्याय योजना शासन की महत्वपूर्ण योजना है। इस गौठान में महिलाओं को विभिन्न गतिविधियों में मन लगाकर कार्य करते हुए प्रत्यक्ष देखकर खुशी हुई। यहां महिलाएं आत्मनिर्भरता की दिशा में समर्पित भाव से कार्य कर रही हंै। इससे महिलाओं को आर्थिक रूप से मदद मिल रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा थी कि प्रत्येक दीदीयों को कार्य मिले और स्वयं आत्मनिर्भर बन सकें। जिसका प्रत्यक्ष उदाहरण यहां देखने को मिल रहा है। महिलाओं के लिए गौठान स्वालंबन होने का सबसे बढ़ा साधन है। अब महिलाएं स्वयं अपने अनुसार कार्य कर रही हैं और लाभ कमा रही हंै। उन्होंने कहा कि समूह द्वारा सभी महिलाओं का एक साथ कार्य करने से विचारों का आदान-प्रदान करने का मौका मिलता है। शासन की योजना से महिलाओं का सशक्तिकरण हो रहा है। अब दीदीयां स्वयं आमदनी से सक्षम होकर अपने परिवार के के आर्थिक मदद में सहयोग कर रही हैं।


महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेडिय़ा ने स्वसहायता समूह की महिलाओं से रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क में उत्पादित कर रहे सामग्री की जानकारी ली। स्वसहायता समूह की महिलाओं ने बताया कि गौठान में 80 महिलाएं कार्य कर रही है। प्रत्येक महिला को प्रतिमाह 6 हजार रूपए आमदनी हो रही है। गुलाल बना रही स्वसहायता समूह की महिलाओं ने बताया कि यहां हर्बल खुशबूदार गुलाल तैयार किया जा रहा है। विभिन्न प्रकार के रंग भी तैयार किए गए है। श्री गणेशा कंपनी से साझेदारी कर कार्य किया जा रहा है। जिसके माध्यम से विक्रय किया जाता है। इसके साथ ही बाजारों में भी गुलाल का विक्रय किया जा रहा है। जिसकी बाजारों और अन्य राज्यों में अधिक मांग है। आज एक ही दिन में 26 हजार रूपए के हर्बल गुलाल का विक्रय दिल्ली के नागरिक को किया है। महिलाओं ने बताया कि मंदिर में उपयोग हुए फूलों को इकठ्ठा कर गुलाल बनाया जाता है। 

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button