राष्ट्र

शरद पवार पुनर्विचार तक एनसीपी प्रमुख रहेंगे

मुंबई . राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने बुधवार को कहा कि जब तक शरद पवार पद से हटने के अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं करते वह पार्टी प्रमुख बने रहेंगे. तब तक उनके उत्तराधिकारी को चुने जाने पर कोई चर्चा नहीं होगी.

एनसीपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पटेल ने यहां संवाददाताओं से यह भी कहा कि वह शीर्ष पद की दौड़ में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि पवार ने अपने उत्तराधिकारी का फैसला करने के लिए मंगलवार को जिस समिति का गठन किया था, उसकी बुधवार को बैठक नहीं हुई.

इस्तीफे पर विचार करने शरद पवार ने मांगा समय

छगन भुजबल ने कहा, ‘हमने शरद पवार से अनुरोध किया कि आप इस्तीफे को वापस लें. हम चाहते हैं कि आप पार्टी में रहें. वे शांत थे, लेकिन कहने के लिए कुछ नहीं था. फिर उन्होंने मुझे मीडिया को यह बताने के लिए कहा कि कोई बैठक नहीं है. दो-तीन दिनों के बाद यह समिति एक साथ बैठेगी और निर्णय होगा.’ हालांकि, पार्टी उपाध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल ने पत्रकारों को यह कहते हुए इस मुद्दे को कम करने की कोशिश की कि शरद पवार तब तक पार्टी प्रमुख बने रहेंगे जब तक वह पद से हटने के अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं करते हैं. तब तक उनके उत्तराधिकारी को चुनने के लिए कोई चर्चा नहीं होगी.

उन्होंने कहा, कोई रिक्तिनहीं है. साथ ही पटेल ने कहा, पवार अध्यक्ष रहें या न रहें, वे पार्टी की पहचान और आत्मा हैं. पटेल से उन खबरों के बारे में पूछा गया, जिनमें कहा गया कि एनसीपी नेता सुप्रिया सुले राष्ट्रीय अध्यक्ष और अजीत पवार महाराष्ट्र इकाई प्रमुख हो सकते हैं. कुछ खबरों में यह भी कहा गया कि पटेल पवार की जगह ले सकते हैं.

उन्होंने इस बात से भी इनकार किया कि एनसीपी के प्रदेश प्रमुख जयंत पाटिल पार्टी से नाराज हैं. मालूम हो कि मंगलवार को मुंबई में अपनी आत्मकथा लोक माझे संगती के नवीनतम संस्करण के विमोचन कार्यक्रम में एनसीपी प्रमुख के पद से इस्तीफा देने की घोषणा कर सभी को चौंका दिया. एनसीपी अध्यक्ष पद छोड़ने की घोषणा के एक दिन बाद शरद पवार ने बुधवार को यहां पार्टी पदाधिकारियों संग बैठक करने के साथ ही रोज की तरह लोगों से मुलाकात की.

aamaadmi.in अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. aamaadmi.in पर विस्तार से पढ़ें aamaadmi patrika की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button